बांग्लादेश में नकली बनारसी साड़ी के निर्माण के खिलाफ कारवाई….

बांग्लादेश में नकली बनारसी साड़ी के निर्माण के खिलाफ जीआईसे जुड़ी स्थानीय संस्थाएं और निर्यातक एकजुट हो गये हैं। उन्होंने जीआई के मानकों का उल्लंघन बताते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखा है।

पीएम से अंतरराष्ट्रीय कानूनों के मुताबिक बांग्लादेश पर दबाव बनाने और उचित कार्रवाई की मांग की गई है। निर्यातकों ने वाणिज्य और वस्त्र मंत्रालय को भी पत्र भेजा है। यह जानकारी सोमवार को लहरतारा स्थित उद्योग विभाग के कार्यालय में संयुक्त आयुक्त, उद्योग उमेश कुमार सिंह ने पत्रकारों को दी।

 

बुनकरों में से एक ने बताया, “भौगोलिक संकेत (जीआई) के अधिकारों को हासिल करने वाले बनारसी रेशम उत्पादों के बावजूद बांग्लादेश द्वारा हमारे काम की नकल के कारण व्यापार प्रभावित हो रहा है। बुनकरों ने सरकार से आग्रह किया है कि वे नकली उत्पादों के माल को नियंत्रित करें।

इस बीच, एक जीआई विशेषज्ञ रजनीकांत ने कहा, “इस मामले में कानूनी हस्तक्षेप के लिए प्रधान मंत्री और वस्त्र मंत्रालय और वाणिज्य मंत्रालय को एक पत्र भेजा गया है। अब हमें यह जानना चाहिए कि अंतर्राष्ट्रीय बाजार में हमारे उत्पाद की मांग क्यों गिर रही है। वाराणसी के पारंपरिक बुनकरों का व्यवसाय भी रुका हुआ है।

बुनकरों के मुताबिक, नकली साड़ियों की वजह से बुनकरों द्वारा बनाई गई असली बनारसी साड़ियों की मांग में तेज़ी से गिरावट आई है। नकली काम के बारे में भौगोलिक संकेतक (जीआई) विशेषज्ञ ने प्रधान मंत्री मोदी, कपड़ा मंत्रालय और उद्योग मंत्रालय को एक पत्र भेजा है।

Facebook Comments