जानिये गरुणपुराण की कुछ भायशाली बातें…..

शुक्राचार्य का नाम तो आपने सुना होगा। राक्षसों के गुरु थे लेकिन इतने ज्ञानी थे कि महादेव ने उनके ज्ञान से प्रसन्न होकर उन्हें देव होने का वरदान दे दिया था। शुक्राचार्य की नीति के अनुसार किसी भी पुरुष के लिए अपने अंगों का प्रदर्शन कष्टकारी होता है। खासकर की महिलाओं के आगे।

गरुणपुराण में भी इसका जिक्र है। महिलाओं के आगे पुरुषों को कभी अपनी छाती(चेस्ट) और जांघ का प्रदर्शन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से स्त्री के अपमान का पाप लगता है।

क्योंकि पुरुषों की छाती वीरता का प्रीतक है  और जांघें शत्रु को झुकाने का। अगर आप किसी स्त्री के आगे इन अंगों का प्रदर्शन कर रहे हैं तो आप उसे शत्रु मानकर झुकाने का प्रयास कर रहे हैं। जोकि अपराध है।

महिलाओं के निजी अंग – हिंदू धर्म में स्त्रियों को देवी का दर्जा दिया गया है। शायद इसलिए यह कहा जाता है कि जिन घरों में स्त्रियों का सम्मान किया जाता है उन घरों पर देवी-देवताओं की असीम कृपा बरसती है।

कहते हैं कि एक स्त्री ही मकान को घर बनाती है और एक कामयाब पुरुष के पीछे भी किसी स्त्री का ही हाथ होता है। इसलिए घर की स्त्री को सदियों से माता लक्ष्मी का स्वरुप माना जाता है।

एक स्त्री अपने पति के लिए या फिर अपने परिवार के लिए लक्ष्मी के समान भाग्यशाली है या नहीं इस बात का अंदाजा उसके शरीर के कुछ निजी अंगों से भी लगाया जा सकता है।

गरुड़ पुराण, समुद्रशास्त्र और भविष्य पुराण में महिलाओं और पुरुषों के कई शुभ अंगों के बारे में बताया गया है जिन्हें देखकर उनके वर्तमान और भविष्य के बारे में जाना जा सकता है। इसके अलावा उन अंगों की मदद से उनके भीतर छुपे रहस्य को भी जान सकते हैं। जहां सवाल ये है कि आखिर जिन महिलाओं के निजी अंग बड़े होते हैं वो किस तरह की होती हैं।

तो चलिए इस सवाल का जवाब हम आपको देते हैं।

महिलाओं के निजी अंग में छुपे हैं ये राज

शास्त्रों के मुताबिक स्त्रियों के निजी अंगों में महिलाओं के निजी अंग ऐसे हैं जो अगर अपने सामान्य आकार से थोड़े बड़े दिखाई देते हैं तो ये उनके लक्ष्मी स्वरुप और भाग्यशाली होने का संकेत देते हैं।

1- लंबी गर्दन

शास्त्रों के अनुसार जिन स्त्रियों की गर्दन सामान्य आकार से थोड़ी लंबी होती है तो ऐसी स्त्रियां भाग्यशाली मानी जाती हैं। कहा जाता है कि लंबी गर्दन वाली स्त्री सुख और ऐश्वर्य भोगनेवाली होती है।

2- लंबे कान

जिन स्त्रियों के कान सामान्य से लंबे होते हैं ऐसी स्त्रियों के बारे में कहा जाता है कि वो भाग्यशाली होने के साथ ही लंबी आयु वाली होती हैं।

3- लंबे बाल

जिन स्त्रियों के बाल लंबे होते हैं वैसी स्त्रियां सुंदर होने के साथ-साथ भाग्यशाली भी मानी जाती हैं। हिंदू धर्म में देवीयों के बाल भी लंबे दिखाए जाते हैं क्योंकि महिलाओं के लंबे बाल शुभता और भाग्यशाली होने का संकेत देते हैं।

4- मांसयुक्त जांघ

ऐसी मान्यता है कि जिन स्त्रियों की जांघ मजबूत और मांसयुक्त होती हैं उन स्त्रियों को भाग्यशाली माना जाता है।

5- बड़ा सिर

पुराणों के अनुसार सामान्य से बड़े सिर वाली स्त्रियां भी भाग्यशाली मानी जाती हैं। ऐसी स्त्रियां अपने परिवार के लिए ऐश्वर्य लानेवाली और भाग्यशाली होती हैं।

6- लंबे पैर

जिन स्त्रियों के पैर लंबे होते हैं उनके बारे में कहा जाता है कि उनके पैर माता लक्ष्मी के चरणों के समान शुभ होते हैं और ऐसी स्त्रियां अपने घर-परिवार को सुख संपत्ति से भर देती हैं।

7- लंबे हाथ

जिन स्त्रियों के हाथ सामान्य से थोड़े लंबे होते हैं वो भाग्यशाली मानी जाती हैं। ऐसी स्त्रियां अपने पति और परिवार वालों के लिए भाग्यशाली होती हैं।

8- गहरी नाभि

जिन स्त्रियों की नाभी बड़ी और गहरी होती है ऐसी स्त्रियां धनवान, भाग्यशाली होने के साथ ही शुभता का संकेत देती हैं। ऐसी स्त्रियां परिवार को सुख देने के साथ-साथ धन-वैभव और संतान से युक्त होकर जीवन भर आनंद भोगती हैं।

Facebook Comments