प्रेमी-प्रेमिका कसमें खा लेट गए पटरी पर ,फिर जो हुआ वह था प्यार का कड़वा सबक….

साथ जीने-मरने की कसमें खाने वाले प्रेमी-प्रेमिका ने साथ आत्महत्या करने के लिए ट्रेन से कट कर अपनी जान देने की योजना बनाई। दोनों ट्रेन को दूर से आता देख एक-दूसरे का हाथ थामकर पटरी पर लेट गए।

इस बीच कहानी में नया ट्विस्ट आ गया और प्रेमी की तो ट्रेन से कटकर मौत हो गई लेकिन प्रेमिका अपना हाथ छुड़ा जान बचाकर भाग गई। यह एक एेसी प्रेम कहानी जिससे प्यार करने वालों को सबक लेना चाहिए।

 

घटना समस्तीपुर की है जहां प्रेमिका की आंखों के सामने बेचारे प्रेमी की ट्रेन से कट कर मौत हो गयी। लेकिन प्रेमिका ने अपनी जान बचा ली। घटना बुधवार की सुबह स्थानीय रेलवे स्टेशन की 34 व 35 नंबर रेलवे गुमटी की पोल संख्या 12/20 व 12/22 के बीच घटी। जिसकी सूचना मिलने पर अपने जवानों के साथ घटनास्थल पर पहुंचे आरपीएफ पोस्ट प्रभारी धनंजय कुमार को ट्रेन से कट कर अपनी जान गंवाने वाले प्रेमी की लाश भी नहीं मिली़।
लोगों ने पुलिस को बताया कि उनके वहां पहुंचने से पहले ही घरवाले युवक का शव उठाकर भाग निकले़। मृतक युवक दलसिंहसराय थाने के केवटा के वार्ड नंबर तीन के निवासी स्व़र्गीय विजयकांत राय उर्फ लालबाबू राय का छोटा पुत्र अमर कुमार बताया जा रहा है, जो 22 वर्ष का था। उसकी कथित प्रेमिका भी दलसिंहसराय थाने के भगवानपुर चकसेखू कुरनी की रहनेवाली बतायी जा रही है। उसका ननिहाल भी केवटा गांव में ही है।

स्थानीय लोगों ने बताया कि घटना के वक्त दोनों प्रेमी-प्रेमिका साथ ही दिखाई दिए थे। वहां दोनों साथ-साथ आती ट्रेन को देख कर ट्रैक पर लेट गये। जब तक स्थानीय लोग दोनों को बचाने दौड़े, तब तक आती ट्रेन व मौत को देख कर प्रेमिका की हिम्मत नहीं हुई और वह उठ गयी, जबकि ट्रेन के पहुंचते ही प्रेमी युवक उसकी चपेट में आ गया और उसके शरीर के टुकड़े हो गये। कथित प्रेमिका अपने प्रेमी की मौत को देख वहां से भाग निकली़।

मामले को लेकर आरपीएफ पोस्ट प्रभारी ने बताया कि उसे मृतक युवक की लाश नहीं मिली है। पुलिस के पहुंचने पर सिर्फ खून के छींटे घटनास्थल पर बिखड़े मिले हैं। जब तक पुलिस की टीम घटनास्थल पहुंची तब तक घरवाले युवक के शव के टुकड़े समेटकर भाग गए थे। घटना की छानबीन के बाद कार्रवाई की जाएगी

Facebook Comments