सेना का पैसा राफेल में खा गए मोदी, रक्षा सीमा पर नहीं है पैसे – राहुल गांधी

गौरतलब है कि राहुल गांधी बीजेपी सरकार पर लगातार इस डील को लेकर हमला कर रहे हैं। उनका आरोप है कि इस डील से सरकारी खजाने को भारी नुकसान पहुंचा है। उन्होंने इस गंभीर मसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर भी सवाल उठाए हैं। 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को एक बार फिर राफेल फाइटर जेट्स डील को लेकर मोदी सरकार पर तीखा हमला बोला। राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि इस डील से सरकारी खजाने को 36,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है जबकि दूसरी तरफ सेना के पास फंड की भारी कमी है। उन्होंने साफ कहा कि मोदी सरकार एक राफेल जेट पर 1100 करोड़ रुपये ज्यादा भुगतान कर रही है।

राहुल गांधी ने आरोप लगाते हुए कहा कि लड़ाकू विमान बनाने वाली फ्रेंच कंपनी (डसाल्ट एविएशन) ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के झूठ का पर्दाफाश कर दिया और अपनी 2016 की सालाना रिपोर्ट में एयरक्राफ्ट की कीमत बताई। गांधी ने फाइटर जेट्स के लिए बीजेपी सरकार द्वारा चुकाई गई कीमत का जिक्र करते हुए कहा कि एयरक्राफ्ट की कीमत को मनमोहन सिंह (MMS) के नेतृत्व वाली UPA सरकार ने 570 करोड़ रुपये तय किया था।

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि लड़ाकू विमान बनाने वाली फ्रेंच कंपनी (डसाल्ट एविएशन) ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के झूठ का पर्दाफाश कर दिया और अपनी 2016 की सालाना रिपोर्ट में एयरक्राफ्ट की कीमत बताई। गांधी ने फाइटर जेट्स के लिए बीजेपी सरकार द्वारा चुकाई गई कीमत का जिक्र करते हुए कहा कि एयरक्राफ्ट की कीमत को मनमोहन सिंह (MMS) के नेतृत्व वाली UPA सरकार ने 570 करोड़ रुपये तय किया था।

उन्होंने ट्वीट किया, ‘डसाल्ट ने RM (रक्षा मंत्री) का झूठ पकड़ा और रिपोर्ट में एक राफेल पर चुकाई गई कीमत जारी कर दी: कतर=1319 करोड़, मोदी= 1670 करोड़, MMS=570 करोड़।’ कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्विटर पर कहा, ‘1100 करोड़ प्रति प्लेन या 36000 करोड़ यानी हमारे रक्षा बजट का 10 प्रतिशत, पॉकेट में। इस दौरान हमारी सेना सरकार से पैसे की गुहार लगा रही है।’

गौरतलब है कि राहुल गांधी बीजेपी सरकार पर लगातार इस डील को लेकर हमला कर रहे हैं। उनका आरोप है कि इस डील से सरकारी खजाने को भारी नुकसान पहुंचा है। उन्होंने इस गंभीर मसले पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चुप्पी पर भी सवाल उठाए हैं।

Facebook Comments