सर्जिकल स्ट्राइक पर राहुल को साथ ले जाना चाहिए था, पार्रिकर का कांग्रेस पर हमला

अमेरिका में इलाज कराकर लौटने के बाद पहली बार भाजपा कार्यकर्त्ताओं को संबोधित करते समय गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पार्रिकर सोमवार को भावुक हो गए। पार्रिकर ने रुंधे गले और आंखों में आंसू के साथ कहा कि जब मैं आपको संबोधित करने के लिए उठा तो मेरी आंखों में आंसू थे। मैं पिछले चार महीने से पार्टी कार्यकर्त्ताओं से नहीं मिला हूं। मुझे उम्मीद है कि मॉनसून के बाद मैं कम से कम कुछ गांवों का दौरा करूंगा और कार्यकर्त्ताओं से मुलाकात करूंगा।’’ पार्रिकर जब कार्यक्रम स्थल पर पहुंचे तो वहां मौजूद करीब 2000 लोगों ने खड़े होकर उनका स्वागत किया।  बता दें कि (62) अग्नाशय संबंधी बीमारी के इलाज के लिए तीन महीने तक अमेरिका में रहने के बाद पिछले महीने स्वदेश लौटे हैं।
PunjabKesari
राहुल पर कंसा तंज
भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक की प्रमाणिकता पर सवाल खड़ा करने को लेकर विपक्ष को आड़े हाथों लेते हुए पार्रिकर ने कहा कि मैं इस पर राजनीतिक लिहाज से नहीं बोल रहा हूं। उन्होंने कहा कि विपक्षी दलों का दावा है कि सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक नहीं किया। गोवा के सीएम ने कहा कि मुझे विपक्ष को अपने साथ ले जाना चाहिए था और सेना से कहना चाहिए था कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को साथ ले जाएं और फिर सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दें।

PunjabKesariसीएम ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक पूरी तरह से गोपनीय थी इसकी जानकारी केवल चार लोगों को थी- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सेना प्रमुख, सैन्य संचालन महानिदेशक और मुझे। उल्लेखनीय है कि 29 सितंबर 2016 को पाकिस्तान की सीमा में घुस कर भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक को अंजाम दिया था जिसको लेकर वपक्षी दलों ने सवाल खड़े किए थे।           PunjabKesari

Facebook Comments