अब रेलवे उठाएगा महिलाओं की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी….

 

रेल यात्रा के दौरान महिलाओं को कई समस्या का सामना करना पड़ता है। महिलाओं में असुरक्षा की भावना बनी रहती है क्योंकि अक्सर ट्रेनों में महिलाओं के साथ छेड़छाड़ या बदसलूकी के समाचार सुनने को मिलते रहते हैं। हालांकि ट्रेनों में महिलाओं के लिए अलग से कोच आरक्षित किए गए हैं।

रेलवे सुरक्षा बल के महिला स्टाफ को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। उच्चाधिकारियों के निर्देशों पर फि रोजपुर रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त एस. सुधाकर ने भी एक 5 सदस्यीय टीम का गठन किया है|

अब एक्सप्रैस ट्रेनों में महिलाओं के लिए आरक्षित कोच में CCTV कैमरे भी लगाए जा रहे हैं लेकिन फि र भी ट्रेन में सफर कर रही अकेली महिला कहीं न कहीं अपने आप को असहज महसूस करती है।

महिलाओं के इस डर को खत्म करने के लिए रेल मंत्रालय द्वारा हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। रेलवे सुरक्षा बल के महिला स्टाफ  को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। उच्चाधिकारियों के निर्देशों पर फि रोजपुर रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त एस. सुधाकर ने भी एक 5 सदस्यीय टीम का गठन किया है जिसे टीम भैरवी का नाम दिया गया है। यह टीम ट्रेनों में महिला यात्रियों से सम्पर्क कर उनकी परेशानी को जानेगी चाहे वह पुलिस से संबंधित हो या हैल्थ से।

टीम भैरवी का नेतृत्व कर रही सब-इंस्पैक्टर राकेश कुमारी ने टीम के अन्य सदस्यों हैड-कांस्टेबल सरला रानी, दलजीत कौर, रितु व शरणजीत कौर के साथ बुधवार को सिटी रेलवे स्टेशन पर नई दिल्ली से अमृतसर जाने वाली शताब्दी एक्सप्रैस समेत कई ट्रेनों में महिलाओं को जागरूक किया। यह टीम फील्ड में रहकर पठानकोट से लेकर जालंधर, अमृतसर और लुधियाना स्टेशनों तक अलग-अलग ट्रेनों में सवार होकर महिलाओं को जागरूक करेगी।

 

Facebook Comments