सुहागरात के सपने हर लड़की देखती है,पर जो मेरे साथ हुआ वो दर्दनाक था…मेरा नाम फातिमा शिरीन है

मेरा नाम फातिमा शिरीन है और मैं महज 22 साल की हूं। मैं पाकिस्तान की छोटे से गांव से रहने वाली हूं मेरे माता-पिता मेरे साथ ही रहते थे मेरे पिता का एक छोटा सा कारोबार था मैं अपने माता-पिता की इकलौती बेटी हूं मुझे मेरे घर में बहुत ज्यादा प्यार किया जाता था मैंने कभी नहीं सोचा था कि आने वाली जिंदगी में मेरे साथ कुछ ऐसा होगा जो मेरी जिंदगी को हमेशा के लिए बदल कर रख देगा।

यह मेरी कहानी है मैं आज आप सबके साथ अपनी कहानी को बयां करूंगी मुझे नहीं पता कि आप में से कितने लोगों तक मेरी आवाज पहुंचेगी मगर मैं इतनी गुजारिश जरूर करूंगी कि हर लड़की के भाग्य में ऐसा कभी ना हो कि उसे इस दर्द से गुजर ना पड़े।यह बात आज से 3 साल पहले की है जब मेरी शादी तय हुई थी बहुत खुश थी मैं और मेरे माता पिता भी बहुत खुश थे। मेरी अरेंज मैरिज हो रही थी लड़का हमारे गांव का ही था मेरे पिता के दोस्त का बेटा इसीलिए सब लोग चाहते थे कि मेरी शादी उससे हो जाए उनको लोग नए शिफ्ट हुए थे वहां पर तो इतना कोई उनके बारे में जानता नहीं था पहले से।

हम दोनों की शादी हुई पूरे रीति रिवाज के साथ मेरे माता-पिता ने मुझे बहुत प्यार से विदा किया मैं अपने ससुराल गई वहां पर मेरे सास ससुर ने मुझे बहुत प्यार से मेरा ध्यान रखा और स्वागत किया बहुत खुश थी मेरी जिंदगी मुझे लगा कि शायद मैंने कुछ अच्छे कर्म किए होंगे जिसकी वजह से मुझे इतना अच्छा परिवार मिला इतना अच्छा पति मिला मगर मुझे कहां पता था कि मेरे साथ कुछ ऐसा घटने वाला है कि शायद मैं जिंदगी भर के लिए उस सदमे को भूल ना पाऊं।

शादी के बाद जब हमारी पहली रात थी तो मेरे पति ने मुझसे कहा कि मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं यह मेरी अरेंज मैरिज थी तो मैं आने वाली जिंदगी के लिए तैयार तो थी मगर अंदर से डरी हुई थी। मेरे पति ने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे किस करने के लिए आगे बढ़ा मगर मैं थोड़ा सा घबराई क्योंकि वह पहली बार था जब मैं ऐसे किसी अनजान इंसान के साथ थी इससे पहले ना मैंने कभी किसी लड़की से बात की बात भी कोई दोस्ती की यह सब कुछ मेरे लिए एक नया अनुभव था। उसने मेरे को किस किया मेरी अनुमति के बिना, उसे पता था की मैं उस वक़्त तैयार नहीं थी किसी भी सम्बन्ध के लिए, मगर शायद हर शादी में आपकी मर्ज़ी हो या न हो आपको खुदको किसी और के हवाले करना ही पड़ता है।

वो मेरे साथ जबरदस्ती करने लगा, मैंने कहा की अभी मेरे पीरिय,ड्स भी चल रहे तो मैं संबंध के लिए तैयार नहीं हूँ। मगर फिर भी उसने मेरे कपड़े फा,ड़े और मुझपे जानवरों की तरह चढ़ गया। उसने मेरी हालत का बिना सोचे समझे मेरा रे,प किया, जी हाँ वो मेरा पति था मगर फिर भी उसने मेरे साथ जबरदस्ती की। मुझे लेकिन समझ में नहीं आया कि मैं क्या करूं किस से कहूं और उस वक्त वहां पर सब लोग अनजान थे कौन मेरी बात पर यकीन करता कि मेरे साथ ऐसा हुआ है।

कैसे भी करके मैंने अपने आप को संभाला अगले दिन मेरा रिसेप्शन था मेरे घरवाले आने वाले थे रिसेप्शन के लिए मैं तैयार हुई और देश पर जा कर बैठी कुछ देर बाद मुझे चक्कर आ गया और मैं बेहोश हो गई मुझे हस्पताल में भर्ती कराया गया तो जैसा कि आपको पता है कि मुझे बहुत ज्यादा ब्ली,डिंग हो रही थी जिसकी वजह से मैं बहुत देर तक सरवाइव ना कर पाऊं शायद इसलिए मैं यह सारी बातें आपको बता कर जा रही हूं ताकि आप यह सारी बातें मेरे घर वालों तक पहुंचा दें। उसने अपनी कहानी मुझे बताइ और अगले ही दिन वो चल बसी। हैवी ब्ली,डिंग के कारण वो बच नहीं पाई।

यह आपने उस कहानी के बारे में जाना जो उसके साथ हुआ उसने अपनी सारी बातें मुझे बता दे मैं शबाना शेख उसकी डॉक्टर हूं। मुझे लड़के वालों ने बहुत डराया-धमकाया कि मैं किस चीज के बारे में लड़की वालों को ना बताऊं अगर मैंने उसने कुछ भी बताया तो मेरे साथ भी हो ऐसा ही कुछ करेंगे और मार डालेंगे। डरते डरते लेकिन मैंने लड़की के परिवार वालों को सारी बातें बता दी जो भी मुझे बताया था लड़की वालों ने बहुत गुस्से में पुलिस कंप्लेन की मगर पुलिस वालों ने किस को दबाने के लिए कहा क्योंकि पुलिस के नजरिए से यह रे,प केस नहीं हो सकता क्योंकि उनकी शादी हो चुकी थी।

मैंने अक्सर देखा है एक से एक ऐसे कैसे जहां पर आज भी औरतों पर इतने जुल्म और अत्याचार किए जाते हैं और पुलिस और सरकार कुछ नहीं करती है पुलिस हमारी सहायता के लिए होती है मगर मैंने नहीं देखा कि पुलिस ने कभी किसी मरीज की ऐसी सहायता की हो ताकि उस को इंसाफ मिल सके। लड़की के परिवार वालों ने बहुत कोशिश की मगर उन्हें आज भी इंसाफ नहीं मिला मुझे लगता है आज भी उस लड़की की रूह कहीं ना कहीं भटक रही होगी इसी सोच में कि उसे इंसाफ क्यों नहीं मिला क्यों उसकी अरमानों का गला घोटा गया?

मैं दुआ करती हूं कि फातिमा को इंसाफ जरूर मिलेगा आज नहीं तो कल यह इंसाफ जरूर होना चाहिए वरना शायद पाकिस्तान या दुनिया की किसी भी लड़की को हमेशा हमारे नियमों कानूनों और समाज पर संदेह होगा।

(पाकिस्तान में रहने वाली एक महिला की ये वास्तविक कहानी सच्ची घटना. के संवाददाता से बातचीत पर आधारित है. महिला के आग्रह पर उनकी पहचान गुप्त रखी गई है.)

Facebook Comments