बोर्डिंग स्कूल के केयरटेकर ने किया मासूम बच्चियों का रेप

यौन शोषण अपने आप में एक अमानवीय अपराध होता है लेकिन करजत स्थित बोलने और सुनने में अक्षम बच्चों के बोर्डिंग स्कूल में सारी हदें पार कर दी गईं।रेप की दो शिकायतें आने के बाद जब पड़ताल की गई तो सभी के होश उड़ गए। एक बच्चे की मां ने 30 मार्च को शिकायत की तो उसके बाद स्कूल में रहने वाली लगभग हर बच्ची के शोषण की बात सामने आई।

पुलिस ने दूसरे बच्चों के बयान भी लिए हैं। करजत पुलिस स्टेशन की सीनियर इंस्पेक्टर सुनीता तनावडे ने बताया कि सात बच्चियों के बयान दर्ज किए गए हैं जिनकी उम्र 6 से 13 साल के बीच की है। पुलिस ने जांच में साइन लैंग्वेज इंटरप्रिटर की मदद ली है। तनावड़े ने बताया कि स्कूल की लगभग हर लड़की का शोषण हुआ है।

कुछ दिन पहले 7 और 10 साल की बच्चियों ने आरोपी केयरटेकर को पहचाना था। जांच में रेप किए जाने का बात सामने आई। पुलिस ने बताया कि बाथरूम्स में खिड़कियां न होने के फायदा उठाकर केयरटेकर लड़कियों के नहाते और टॉइलट का इस्तेमाल करते विडियो बनाता था।

स्कूल में करीब 40 बच्चे पढ़ते हैं जिनमें से 8 लड़कियां और नौ लड़के बोर्डिंग सुविधा लेते हैं। ज्यादातर अभिभावक घरों में काम करते हैं और बच्चों को स्कूल में रखते हैं। वीकेंड में वह बच्चों को घर ले जाते हैं। पुलिस ने लड़कों से बात की तो उन्होंने बताया कि केयरटेकर शराब पीकर उन्हें मारता-पीटता था। आरोप है कि 27 मार्च को उसने सारे बच्चों को पीटा।

शोषण की बात सामने तब आई जब 28 मार्च को लंबी छुट्टियों में बच्चे घर गए। पुलिस ने 30 मार्च को आईपीसी की कई धाराओं के तहत केस दर्ज किया। आरोपी को न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। स्कूल के प्रिंसिपल और सुपरिंटेंडेंट को भी गिरफ्तार किया गया थे लेकिन उन्हें बेल मिल गई।

 

Facebook Comments