चोंचला : कचरे की समस्या से लड़ने के लिए मोदी ने की श्री श्री रविशंकर की प्रशंसा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को आर्ट ऑफ लिविंग (एओएल) के संस्थापक श्री श्री रविशंकर की कचरा सहित कई समस्याओं के नवीन समाधान के लिए प्रशंसा की। ‘स्वच्छता ही सेवा’ अभियान शुरू होने के बाद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रधानमंत्री आध्यात्मिक गुरु से बात कर रहे थे।

PunjabKesari

मोदी ने कहा, “आप न केवल समस्याओं का समाधान करते हैं, बल्कि इसे काफी नये तरीके से नवीन प्रौद्योगिकी और विचारों के साथ करते हैं।” उन्होंने कहा, “स्वच्छता के लिए आपकी चिंताएं प्रशंसनीय हैं और इस दिशा में काम करने के लिए आपके स्वयंसेवकों का प्रयास इस बड़े अभियान को आगे ले जाता है।” मोदी ने कहा कि रविशंकर और उनके एओएल के कार्यकर्ता समाज और देश की भलाई में हमेशा आगे रहते हैं। एओएल के संस्थापक ने मोदी से कहा कि देश भर के मंदिरों में नौ कचरा प्रबंधन मशीनें लगाई गई हैं, जिनसे मंदिरों के कचरे से खाद बनाते हैं।

PunjabKesari

रविशंकर ने कहा, “आपके शब्दों और प्रेरणा के कारण हमारे एक कार्यकर्ता ने मशीन बनाई जो कचरे का प्रबंधन करता है और इसे खाद में बदलता है। उन मशीनों को वाराणसी के विश्वनाथ मंदिर और अजमेर शरीफ दरगाह सहित नौ पूजा स्थलों पर लगाया गया है।” उन्होंने कहा कि आदिवासी गांवों की तुलना में शहर ज्यादा गंदे हैं और उनके स्वयंसेवकों ने स्वच्छता के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए अभी तक 90,560 शिविर लगाए हैं और उनके अच्छे परिणाम आए हैं।

PunjabKesari

श्री श्री रविशंकर कहा, “शहरों में सुविधाओं की बढ़ोत्तरी के साथ प्लास्टिक के प्रयोग के कारण कचरा भी बढ़ा है। इस तुलना में आदिवासी गांव साफ हैं। यह वास्तव में बड़ा अंतर है।”

Facebook Comments