बस स्टैंड पर सरेआम लड़की पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला…

लड़की का प्रेम प्रस्ताव इनकार करना एक मनचले को इतना नागवार गुजरा कि उसने बस स्टैंड पर सरेआम लड़की पर चाकू से ताबड़तोड़ हमला कर दिया। युवक ने 4 बार चाकू घोंप कर लड़की को लहुलूहान कर दिया। इससे लड़की अधमरी होकर गिर पड़ी। इसे देख लोग लड़की की तरफ दौड़े तो युवक भाग निकला। हालांकि पुलिस ने बाद में उसे डिटेन कर लिया। 

चौंका देने वाली वारदात मंगलवार सुबह 10:30 बजे अरथूना बस स्टैंड क्षेत्र पर हुई। खांटवाड़ा निवासी 20 वर्षीय वनीता पुत्री मोहन खांट गांव में ही कंगन स्टोर पर काम करती है। दुकानदार खाने के लिए घर गया था। इसी बीच बड़ोदिया का 23 वर्षीय सोनू कुमार सिंह राजपूत आया और वनीता को कुछ काम होना बताकर अपने साथ आने के लिए कहा।

वनीता की पुरानी पहचान होने से सोनू के साथ चलने को राजी हो गई। बस स्टैंड के समीप पहुंचने पर सोनू ने वनीता को प्रपोज किया और अपने साथ चलने के लिए कहा लेकिन वनीता ने इनकार कर दिया। कुछ देर तो सोनू उसे मनाता रहा लेकिन जब वनीता ने साफ एतराज जताया तो गुस्साए सोनू ने चाकू से वनीता पर ताबड़तोड़ वार किए। सोनू ने वनीता के हाथ और पेट पर 4 बार चाकू घोंपा, जिससे वह लहूलुहान होकर नीचे गिर पड़ी।

चीख सुनकर लोग मौके की तरफ दौड़े तो सोनू वहां से भाग निकला। बाद में घायल वनीता को लोगों ने स्थानीय अस्पताल पहुंचाया। जहां प्राथमिक इलाज के बाद उसे एमजी अस्पताल रैफर कर दिया गया। जख्मी वनीता की हालत नाजुक होने पर उदयपुर रैफर कर दिया गया। अारोपी सोनू को पुलिस ने पकड़ लिया है।

भाई के घर काम करने के दौरान वनीता की बढ़ी नजदीकियां :

सोनू मूल रूप से उत्तरप्रदेश के औरंगाबाद का रहने वाला है। उसके बड़े भाई की अरथूना में मोबाइल दुकान है। भाई की काम में मदद कर सोनू उसी के साथ रहता था। वनीता सोनू के भाई के घर घरेलू कामकाज के लिए आती थी। उसी समय दोनों एक-दूसरे से मिले और नजदीकियां बढ़ी। सोनू के भाई को इसका पता चला तो उसने सोनू को घर से निकाल दिया। इसके बाद सोनू ने जौलाना में मोबाइल की दुकान खोली। जहां 3 महीने पहले दुकान बंद कर दी। फिलहाल वह बड़ोदिया में रहता है।

परिवार पहले दे चुका पुलिस को रिपेार्ट, पाबंद कर छोड़ दिया :

आरोपी सोनू 11 अप्रैल को भी वनीता को घर से लेने आया था। युवती के इनकार पर धांधली की थी। जिस पर वनिता ने परिजनों के साथ अरथूना थाने में शिकायत दर्ज कराई। इस पर पुलिस ने शांतिभंग के आरोप में सोनू को पकड़ पाबंद कराया था। बावजूद इसके सोनू ने दोबारा वनीता को अपने साथ चलने के लिए दबाव बनाया और जानलेवा हमला कर दिया।

3 बहनों और विधवा मां की जिम्मेदारी :

वनीता के पिता मोहनलाल की कुछ साल पहले मौत हो गई। घर में मां के अलावा 2 बहनें है। मां की मदद के लिए वनीता भी घरों में छाडू-पोंछे का काम करती है। डीएसपी वीराराम चौधरी ने बताया कि सोनू के प्रेम प्रस्ताव से इनकार पर वनीता पर चाकू से हमला किया। सोनू को डिटेन कर लिया गया है। पूछताछ की जा रही है।

 

Facebook Comments