पतियों के साथ है ये कानून,नही लगा पायेगा अब कोई दहेज़ का झूठा आरोप….

साउथ मुंबई के एक बिजनेसमैन के खिलाफ पत्नी ने दहेज और आपराधिक मामले का केस किया था, पति का आरोप था कि पत्नी ने प्रताड़ित करने के लिए दहेज का झूठा आरोप लगाया है। पति ने कोर्ट में तलाक की अर्जी लगाते हुए कहा था कि पत्नी ने जो अत्याचार किए, उससे उसकी और उसके परिवार की प्रतिष्ठा खराब हुई है। हाईकोर्ट ने पुरुष को पत्नी से तलाक दिलाया है। साथ ही पत्नी को आदेश दिया है कि वह पति को 50 हजार रुपए का मुआवजा भी देगी।

– झूठा केस लगा है तो घबराएं नहीं बल्कि खुलकर उसका विरोध करें।

– आप झूठी शिकायत पर आईपीसी के अंतर्गत शिकायतकर्ता, गवाह और पुलिस पर भी केस कर सकते हैं।

– पत्नी ने झूठी शिकायत की है तो आप भी इसकी शिकायत पुलिस में करें। उच्च अधिकारियों के सामने पूरा मामला लाएं।

– कई बार ऐसे केस में पुलिस एफआईआर के नाम पर डराती है, ऐसे में डरें नहीं बल्कि अपने वकील के जरिए पुलिस से बात करें

– पुलिस पुख्ता सबूत मिलने पर ही आपके खिलाफ केस कर सकती है।

– हाईकोर्ट एडवोकेट संजय मेहरा का कहना है कि पति, पत्नी में कौन सही है इस बात का निर्णय कोर्ट ही करता है। पति अपनी बेगुनाही के पूरे सबूत कोर्ट के सामने रख सकता है। कई मामलों में पत्नी के आरोप गलत पाए गए हैं और कोर्ट ने पति को सभी आरोपों से बरी किया है।

Facebook Comments