Breaking : RBI ने क्रेडिट पॉलिसी में रेपो रेट 0.25 फीसदी बढ़ाया, महंगा होगा होम लोन

क्रेडिट पॉलिसी में रिजर्व बैंक ने रेपो रेट में 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी की है। अब रेपो रेट 6.25 फीसदी से बढ़कर 6.5 फीसदी हो गई है। वहीं, रिवर्स रेपो रेट को 6.25 फीसदी से बढ़ाकर 6.75 फीसदी किया।

रिजर्व बैंक ने लगातार दूसरी पॉलिसी में रेपो रेट बढ़ाया है। आरबीआई ने महंगाई की चिंता के कारण दरों में बढ़ोतरी की है। ये फैसला रिजर्व बैंक की मॉनिटरी पॉलिसी कमेटी ने 3 दिन तक चलने वाली बैठक में किया है। रेपो रेट बढ़ने से आपके होम लोन, ऑटो लोन और पर्सनल लोन की EMI बढ़ जाएगी। रेपो रेट वो दर होती है जिस दर पर बैंक रिजर्व बैंक से पैसा लेते हैं।

रिजर्व बैंक ने वित्तवर्ष 2019 के लिए जीडीपी 7.4 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है। रिजर्व बैंक को लगता है कि अप्रैल-जून 2019 में महंगाई बढ़कर 5 फीसदी हो जाएगी। रिजर्व बैंक ने अपना मत ‘न्यूट्रल’ रखा है। इसके बाद रिवर्स रेपो रेट 6.25 हो जाएगा।

रिजर्व बैंक ने महंगाई को 4 फीसदी रखने का लक्ष्य बनाया है। जून में महंगाई 5 फीसदी के पार हो गई थी। महंगाई में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। सरकार ने किसानों की फसलों के लिए एमएसपी में इस बार बढ़ोतरी की है। इस कारण खाने के सामान महंगे होंगे। इससे महंगाई दर बढ़ेगी। अगर मॉनसून ठीक नहीं रहा तो भी महंगाई पर असर पड़ेगा।

रिजर्व बैंक मुख्यतौर पर महंगाई को काबू में रखता है। महंगाई को काबू में रखने के लिए ही रिजर्व बैंक रेपो रेट में बढ़ोतरी या कटौती करता है। अगर महंगाई कम होती है तो रेपो रेट में कटौती की जाती है ताकि लोग ज्यादा खर्च करें। लोगों को बैंको से कम ब्याज पर लोन मिलता है तो लोग अधिक से अधिक खर्च करते हैं। अगर महंगाई बढ़ रही होती है तो रिजर्व बैंक रेपो रेट बढ़ा देता है। इससे लोन महंगा हो जाता है और लोग ब्याज पर पैसा लेने से बचते हैं। बाजार में पैसा कम आता है तो महंगाई घट जाती है।

Facebook Comments