कुल कंपनी के 17 हजार से भी ज्यादा employ शामिल, सैलरी होगी दोगुने से ज्यादा…

 

जानकारी के मुताबिक, जूनियर लेवल से लेकर चेयरमैन पद तक की सैलरी दोगुने से भी ज्यादा की जाएगी। हालांकि, मूल वेतन के उच्च स्तर पर भुगतान किए जाने वाले महंगाई भत्ते के हिसाब से यह बढ़ोतरी कम ही रहेगी। वेतन में बढ़ोतरी इसलिए़ भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि सरकार ने निजी कंपनियों को कमर्शियल प्रॉडक्शन के लिए कोयला खदानों की नीलामी करने के लिए कहा है। 

coal india में नीचे से लेकर ऊपर तक सभी अधिकारियों की salary डबल से भी ज्यादा करने का फैसला लिया गया है। जिनमें कुल कंपनी के 17 हजार से भी ज्यादा employ शामिल हैं।

साथ ही कोल इंडिया मैनेजमेंट अवैध खनन को लेकर भी चिंतित है। कंपनी के चेयरमैन गोपाल सिंह ने कहा, ‘कोल इंडिया एग्जिक्युटिव्स की रिवाइज्ड सैलरी की वजह से 1,000 करोड़ रुपये अतिरिक्त खर्च होंगे। इसके जल्द ही लागू होने की उम्मीद है। कंपनी पिछले साल से एग्जिक्युटिव्स की अनुमानित वेतन बढ़ोतरी के लिए हर तिमाही के करीब 400 करोड़ रुपये बचा रही है।

कोल इंडिया अधिकारी के मुताबिक, संशोधित वेतन प्रस्ताव को 14 अप्रैल को होने वाली कोल इंडिया बोर्ड की बैठक में पेश किए जाने की उम्मीद है। एग्जिक्युटिव ने बताया, ‘हाल ही में इस प्रस्ताव पर चर्चा हुई थी, लेकिन बोर्ड ने इसे पास नहीं किया था। मंत्रालय ने कंपनी को जल्द से बोर्ड की मंजूरी हासिल करने के लिए कहा था।’

जानकारी के लिए बता दें कि कोल इंडिया के एग्जिक्यूटिव्स की सैलरी हर 10 साल में संशोधित की जाती है। उन्होंने बताया, ‘चूंकि सैलरी हर 10 साल में रिवाइज्ड होती है, अन्य महारत्न कंपनियों का कई ग्रेडों के लिए वेतन का भुगतान अब कोल इंडिया के एग्जिक्युटिव्स की तुलना में ज्यादा है। हम मैनेजमेंट से अनुरोध कर रहे हैं कि वे अनियमितता को दूर करें और इसे दूसरे बड़े सार्वजनिक उपक्रमों के समान करें।

 

एग्जिक्यूटिव ने कहा कि जूनियर एग्जिक्युटिव्स सैलरी संबंधी इस अनियमितता को दूर करने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि दूसरी मुनाफे में चलने वाली सरकारी कंपनियों की तरह ही उनका भी वेतनमान तय किया जाए।

 

Facebook Comments