BTC 2015: गणित में 25 में से 40 और संस्कृत में 25 में दिए 26 नंबर

बीटीसी 2015 के तृतीय सेमेस्टर के परिणाम बड़े पैमाने पर गड़बड़ी सामने आई है। शनिवार शाम घोषित रिजल्ट में किसी छात्र को गणित में 25 में से 40 तो किसी को 25 में से 29 नंबर मिल गए हैं। एक छात्रा को संस्कृत में 25 में से 26 नंबर मिले हैं। इंटरनेट से अंकपत्र डाउनलोड करने के बाद जब प्रशिक्षुओं की नजर अंकों पर पड़ी तो होश उड़ गए।.

यह स्थिति तब जबकि परिषदीय स्कूलों में 68500 सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए आयोजित लिखित परीक्षा के परिणाम में गड़बड़ी के कारण पूर्व सचिव डॉ. सुत्ता सिंह आठ सितंबर को निलंबित कर दी गई थीं। रजिस्ट्रार विभागीय परीक्षाएं जीवेन्द्र सिंह ऐरी को भी उसी दिन हटा दिया गया था। परिणाम में गड़बड़ी की जांच शासन से गठित तीन अफसरों की कमेटी कर रही है। इतनी बड़ी कार्रवाई के बावजूद परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय की कार्यशैली में सुधार नहीं हो रहा।

शनिवार शाम जारी बीटीसी के परिणाम में भागीरथी कमला टीचिंग ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट प्रतापपुर अम्बेडकरनगर के छात्र नीलोफर भारती (अनुक्रमांक 171592240) को तृतीय सेमेस्टर में 25 अंकों के गणित की लिखित परीक्षा में 40 अंक मिले हैं। इसी प्रकार श्री मेघबरन सिंह बीटीसी ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट सैदपुर गाजीपुर के छात्र परवेज अहमद (अनुक्रमांक 171450939) को गणित में 25 अंकों की लिखित परीक्षा में 29 नंबर के साथ इस विषय में ए ग्रेड मिला है।

श्री सुखई सिंह कॉलेज फॉर एजुकेशन एंड ट्रेनिंग युसुफपुर मनीहारी गाजीपुर की छात्रा प्रियंका (अनुक्रमांक 171455426) को संस्कृत की 25 अंकों की लिखित परीक्षा में 26 नंबर मिले हैं। प्रियंका को इस विषय में ए ग्रेड दिया गया है। इन तीनों प्रशिक्षुओं के अंकपत्र व्हाट्सएप पर वायरल हो गए हैं। परवेज अहमद ने हिन्दुस्तान से फोन पर बताया कि गणित में 25 में से 29 नंबर कैसे मिला उसकी समझ से बाहर है।

अनिल भूषण चतुर्वेदी (सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी) ने कहा- बीटीसी लिखित परीक्षा की कॉपियां जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थानों पर जांची गईं और वहां से नंबर चढ़कर आया। एजेंसी ने परिणाम तैयार किया। पूर्णांक से अधिक नंबर कैसे दे सकते हैं। इस मामले की जांच कर कार्रवाई करेंगे। यदि एजेंसी की गड़बड़ी है तो ब्लैकलिस्ट करेंगे और शिक्षक की गलती है तो उन पर कार्रवाई होगी।

Facebook Comments