70 साल बाद गंगा नदी में इस अजीबोगरीब सांप को देखकर लोगों के उड़ गए थे होश

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं हमारे भारतीय सभ्यताओं में बहुत सी ऐसी प्राकृतिक चीजें हैं जिन्हें हम मानते भी हैं और उन्हें पूछते भी हैं। उन्हीं में से एक है विशाल नदी गंगा, गंगा नदी को हम भारतवासी मां के प्रतिबिंब की तरह देखते हैं। उन्हीं को जल का स्रोत माना जाता है और उनकी हम पूजा भी करते हैं। कहा जाता है कि गंगा नदी में नहाने से इंसान के सभी बुरे कर्म उसमें भूल जाते हैं और वह इंसान फिर से पवित्र हो जाता है इसीलिए गंगा नदी में अनेकों जगह से अनेकों लोग गंगा नदी में डुबकी लगाने आते हैं। लेकिन दोस्तों क्या आपको पता है कि गंगा मां अपने आंचल में और भी बहुत चीजें समेटे हुए हैं। तो दोस्तों अभी कुछ समय पहले गंगा मां कि आंचल से ही कुछ ऐसा निकला था जो आपको चौका देगा। तो यह तो सब जानते हैं क्या था वह चीज।

वाइल्ड लाइफ आप इंस्टिट्यूट द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण के दौरान में एक अजीबोगरीब सांप गंगा नदी में देखने को मिला। एक सर्वेक्षण के अनुसार गंगा के एक दुर्लभ प्रजाति “सिबोल्डस शिलर वाटर” सांप। यह सांप 70 सालों बाद उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले के पास देखा गया था। सर्वेक्षण टीम के वरिष्ठ वैज्ञानिक ने कहा कि यह सांप गंगा नदी के विविधता के लिए बहुत ही ज्यादा महत्वपूर्ण है, यह निश्चित है कि गंगा की बिगड़ती विविधता को बाहर किया जा सकता है। उन्होंने ऐसा भी कहा कि यह सांप को पहले भी बहुत से सर्वेक्षणों में ढूंढा जा चुका था लेकिन यह नहीं देख पाया था। लेकिन अगर यह है तो यह गंगा नदी के लिए बहुत फायदेमंद होगा। इसके बाद कानपुर के सुंदरवन में भी एक सर्वेक्षण किया जा रहा है जिसमें डॉल्फिन, घड़ियाल, मगरमच्छ, सांप आदि का पता चल जाएगा।

Facebook Comments