लड़कियों के मुकाबले लड़के सेक्शुअल हैरसमेंट के ज्यादा शिकार हो रहे हैं…..

दुष्कर्म की घटनाएं आम हो गई है. लड़कियों के साथ यौन शोषण की घटना होती है तो पुलिस ऐक्टिव हो जाती है, लेकिन लड़कों के मामले में ऐसा नहीं होता है. इस वजह से लड़कियों के मुकाबले लड़के सेक्शुअल हैरसमेंट के ज्यादा शिकार हो रहे हैं. यह खुलासा हुआ है एससीईआरटी के सर्वे में, जो 6 महीने के दौरान पूरे प्रदेश के 33460 बच्चों पर किया गया. इनमें गुड़गांव के 1089 स्टूडेंट्स शामिल थे, जिनमें लड़कों की संख्या 44.9 प्रतिशत और लड़कियों की संख्या 55.1 प्रतिशत थी.

स्टेट काउंसिल ऑफ एजुकेशनल रिसर्च ऐंड ट्रेनिंग (एससीईआरटी) ने 2017-18 के सेशन में प्रदेश के कई सरकारी स्कूलों में सर्वे कराया, जिसमें छात्र-छात्राओं से अलग-अलग सवाल पूछे गए. इसके लिए एससीईआरटी ने एक क्वेश्चनेयर तैयार किया, जिसे जिला शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान की ओर से अलग-अलग स्कूलों में जाकर बच्चों से भरवाया गया. इसमें यह सामने आया कि लड़कियों के मुकाबले लड़के अधिक संख्या में सेक्शुअल हैरसमेंट का शिकार हो रहे हैं.

बच्चों का कहना था कि इस तरह के मामलों में उनका कोई रिश्तेदार, पड़ोसी, दोस्त आदि ही शामिल था. बहरहाल देश में अभी बच्चियों से दुष्कर्म के खिलाफ कानून कड़े किये जाने को लेकर बहस जारी है और कानून को अमली जामा पहनाया जाना  बाकी है. इसी बीच एससीईआरटी के सर्वे  की ये रिपोर्ट सरकार के लिए एक और मुसीबत का सबब ही है.

Facebook Comments