जानिये आखिर क्या है Shilpa Shetty के फ्लैट टमी का राज….

बढ़ते दबाव और अनियमित खानपान के चलते लोगों का स्वास्थ्य बिगड़ता ही जा रहा है। कुछ लोग जानकारी के अभाव में तो कुछ पैसों के अभाव में अच्छी डाइट नहीं ले पाते हैं। जिसके चलते पेट से संबंधित रोग और मोटापा जैसी बीमारियां आम हो गई है।पिछले दिनों दिए एक इंटरव्यू में शिल्पा ने कहा था कि वह अपनी डाइट में अंडे को जरूर शामिल करती हैं। आइए जानते हैं क्या है शिल्पा की वो डिश।

शिल्पा ने एक वेबसाइट को दिए इंटरव्यू में कहा था ‘मैं अपनी सेहत को लेकर काफी गंभीर रहते हूं। सुबह उठते ही मैं सबसे पहले खाली पेट गुनगुना पानी पीती हूं। उसके बाद योग करती हूं। नाश्ते में मैं अंडा खाना पसंद करती हूं। ये शरीर को प्रोटीन देने के साथ ही एनर्जी भी देता है। अंडे को मैं मल्टीग्रेन ब्रैड के साथ भी खाना पसंद करती हूं और सलाद के साथ भी खाना पसंद करती हूं। छोटे छोटे एवोकेडा के टुकड़ों के साथ उबले अंडे को टुकड़ों में काटकर खाना मेरी फेवरेट डिश है। साथ ही मैं इस डिश को कहीं न कहीं अपना फिटनेस मंत्र भी मानती हूं।’

  • अंडे को प्रोटीन, कैल्शियम व ओमेगा-3 फैटी एसिड का अच्छा स्रोत माना जाता है। यह सभी पोषक तत्व हमारे शरीर के लिए जरूरी होते हैं। प्रोटीन से हमारी मांसपेशियां मजबूत होती हैं, ओमेगा 3 फैटी एसिड से शरीर में अच्छेश  कोलेस्ट्राल यानि एचडीएल का निर्माण होता है इसके अलावा कैल्शियम से दांत व हड्डियां मजबूत होती हैं।
  • अंडे खाने से आपके शरीर को जरूरी अमीनो एसिड मिलता है जिससे शरीर का स्टैमिना  बढ़ता है।
  • अंडे में विटामिन ‘ए’ पाया जाता है जो बालों को मजबूत बनाने के साथ आंखों की रोशनी बढ़ाता है।
  • अंडे में मिलने वाला फोलिक एसिड व विटामिन बी 12 स्तन कैंसर से बचाता है। विटामिन बी 12   दिमागी प्रक्रिया में मदद करता है और स्मरण शक्ति बढ़ाता है।
  • अंडे  की जर्दी में विटामिन ‘डी’ होता है, जो हड्डियों को मजबूत बनाता है साथ ही शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है।
  • गर्भवती महिलाओं को अपने खाने में अंडे को जरूर शामिल करना चाहिए यह भ्रूण के विकसित में मदद करता है।
  • वजन को लेकर सतर्क रहने वाले लोगों को अंडे का सफेद वाला हिस्से खाना चाहिए। इसमें फैट नहीं होता है।
  • मोनोसैचुरेटेड फैट से भरपूर आहार फैट जीन को अभिव्‍यक्ति को विनियमित करके आपके पेट के आसपास फैट को फैलने से रोकता है। एक चम्‍मच एवोकाडो तेल में लगभग 120 कैलोरी और 10 ग्राम मोनोसैचुरेटेड फैट होता है। इसके अलावा इसका हाई स्‍मोक पॉइट के कारण, स्‍वास्‍थ्‍य के लिए हानिकारक मुक्‍त कणों के बिना इसे तलने के लिए इस्‍तेमाल किया जा सकता है।
  • क्‍या आप जानते हैं कि एक दिन में आधा एवोकाडो भी खाने वाले लोगों में खाने की इच्‍छा लगभग 40 प्रतिशत कम पाई जाती है। एवोकाडो में फाइबर, विटामिन ‘बी’ तथा एमिनो एसिड आपको भरेपन का एहसास दिलाते हैं। इसलिए तेलयुक्त खाद्यों के स्थान पर एवोकाडो का सेवन करने का प्रयास करें।
  • इससे अच्छे कोलेस्ट्रॉल (एचडीएल) की मात्रा बढ़ जाती है। इसमें कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखने वाला बीटा सिटोस्टेरॉल होता है, जो भोजन से मिलने वाले कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित रखता है। एवोकाडो में मौजूद मोनोसैचुरेटेड फैट बढ़े हुए कोलेस्‍ट्रॉल को कम करने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो इंसुसिन प्रतिरोध, अधिक वजन और मोटापे का सबसे बड़ा कारण होता है।
  • वर्कआउट से पहले एवोकाडो को लेने से यह सप्‍लीमेंट की तरह आपको ऊर्जा प्रदान करता है। एक साधारण से एवोकाडों में 20 से अधिक जरुरी पोषक तत्‍व मौजूद होते हैं, इसके अलावा एक एवोकाडो में 250 कैलोरी, 10 ग्राम फाइबर और 15 ग्राम मोनोसैचुरेटेड फैट मौजूद होता है। इसलिए वर्कआउट के लिए ऊर्जा पाने के लिए एवोकाडो का सेवन कीजिए।
  • एक अध्ययन के अनुसार, सब्जियों में मात्र 3 ग्राम मोनेासैचुरेडेट फैट कैरोटीनॉयड का अवशोषण पाने के लिए पर्याप्‍त होता है। कैरोटीनॉयड वजन और फैट कम करने से जुड़ा एक यौगिक है। और ड्रेसिंग के लिए सब्जियों का लाभ प्राप्‍त करने के लिए 20 ग्राम सैचुरेटेड और पॉलीअनसैचुरेटेड फैट की उच्‍च मात्रा की आवश्‍यकता होती है।
Facebook Comments