समझो आपको होने वाला है चेचक,दिखें ये संकेत तो…..

 चेचक एक संक्रामक बीमारी है। जो कि बेरिसेला नामक वायरस के कारण हो जाती है। इसमें तेजी से बुखार और शरीर में खुजली होने लगती है। जो कि आगे चलकर एक गंभीर बीमारी का रूप ले लेता है।

 

कारण

चेचक वैरियोला-जोस्टर नामक वायरस चेचक और चिकनपॉक्स के जिम्मेदार होते है। यह एक व्यक्ति से दूसरें को भी आसनी से फैल जाती है। यह रोग जब किसी व्यक्ति को होता है, तब इसे ठीक होने में 10 से 15 दिन लग जाते हैं। किंतु रोग के कारण चेहरे आदि पर जो दाग़ पड़ जाते हैं, उन्हें ठीक होने में लगभग 5 या 6 महीने का समय लग जाता है। यह बीमारी आमतौर पर सर्दियों और बरसात के मौसम में होती है।
अत्यधिक ठंड और गर्म होने से बी यह बीमारी हो जाती है।
जिनकी स्किन संवेदनशील होती है। उन्हें भी यह समस्या हो जाती है।

लक्षण

शरीर में दर्द
ठंड लगना
सिरदर्द होना
चेहरे, पीछ, हाथ, पैर में दाने निकल आना जो कि आगे चलकर अंधापन, विकलंगता या फिर मौत का कारण बन जाती है।
दानों में खून आना भी एक गंभीर समस्या है। ये दाने एक साथ उभरकर एक साथ बढ़ते है और एक साथ झड़ जाते है। झड़ने के बाद दाने की जगह गढ्ढे बन जाते है।

 

घरेलू उपाय

नीम 11 पत्ते, तुलसी की 11 पत्तियों को 3 या 4 काली मिर्च के साथ पीसकर गुनगुने पानी के साथ दिन में 2 बार पिलाए।बदन में हो रही खुजली से निजात पाने के लिए हरे मटर को पानी में उबालकर इस पानी को शरीर में लगाएं।सेब के छिलके को हल्के गर्म पानी में मिलाकर नहाने से भी खुजली से आराम मिल जाएगा।यदि चेचक के साथ बुखार भी है तो खूब पेय पदार्थ पीएं। पानी, जूस और सूप समय समय पर लेते रहें। यदि बच्चा संक्रमित मां का दूध पीता हो, तो मां को दूध नहीं पिलाना चाहिए। इस बात का भी ध्यान रखें कि संक्रमण घर के दूसरों सदस्यों तक न फैले। संक्रमित व्यक्ति के कपड़े, बिस्तर आदि दूर रखें और उन्हें घर के अन्य सदस्यों के कपड़ों से अलग ही धोएं।

 

Facebook Comments