रोज दिन में सोने के लिए 11.2 लाख रुपए का आॅफर,नींद पर रिसर्च

शोधकर्ता माइक्रोग्रेविटी के प्रभावों का अध्ययन करेंगे ताकि इंटेरनेशनल स्पेस स्टेशन मे वजनहीनता के प्रभावों को और प्रभावशाली तरीके से समझकर उस पर काम किया जा सके। वॉलंटियर्स को 3 महीने तक स्टडी के लिए रखा जाएगा जिसे तीन अलग-अलग भागों मे बांटा गया है।

फ्रांस इंस्टिट्यूट आॅफ स्पेस मेडिसिन एंड फिजियोलॉजी के शोधकर्ता ऐसे वाॅलंटियर्स की तलाश में है जो कि बेड पर सोते हुए तीन महीने बिताए ताकि वे माइक्रोग्रेविटी के प्रभाव का अध्ययन कर सके। इस जाॅब के लिए 16 हजार यूरो यानी लगभग 11.2 लाख रुपए आॅफर किए गए है।

 

यह आसान लगने वाला जाॅब इतना भी आसान नहीं है। इसमें कुछ रुल्स है जिसे फाॅलो करने होंगे। उस पूरी तरह बेड पर रहना होगा और सिर लगभग 6 डिग्री पर टिल्टेड होना चाहिए। उन्हें एक कंधे को बिस्तर के संपर्क में रखना ही होगा। पूरे 60 दिनों तक खाना, सोना, धोना और लगभग सभी दैनिक गतिविधियां बिस्तर पर ही करनी होगी।

Facebook Comments