जम्मू-कश्मीर में सेना और पत्थरबाजों के बीच झड़प,ड्राइवर ने बचाई मासूमों की जान…

इस घटना में सबके सराहनीय काम स्कूल बस के ड्राइवर ने किया, जिसने बच्चों को बचाने के लिए एड़ी-छोटी का जोर लगा दिया। घटना के बाद बस ड्राइवर ने कहा, मैंने जैसे ही देखा कि बस पर पथराव हो रहा है तो मैंने बस की स्पीड बढ़ा दी। बच्चों को बचाने के लिए मैं जितना बेहतर कर सकता था मैंने किया, लेकिन एक बच्चा फिर भी घायल हो गया जिसका मुझे अफ़सोस है।

जम्मू-कश्मीर में सेना और पत्थरबाजों के बीच की झड़प अक्सर होती ही रहती है, लेकिन अब ये पत्थरबाज मासूम बच्चों को अपना निशाना बना रहे हैं। दरअसल, बुधवार को पत्थरबाजों ने एक स्कूल बस पर हमला किया, जिसमें 1 बच्चा घायल हो गया है। घटना दक्षिणी कश्मीर के शोपियां कनिपोरा क्षेत्र की है।

घटना पर शोपियां के एसएसपी शैलेंद्र कुमार मिश्रा के हवाले बताया कि जावूरा गांव के समीप रैनबो इंटरनेशनल स्कूल बस पर ‘शरारती तत्वों’ ने हमला कर दिया। इस घटना में 2 छात्र मामूली रूप से जख्मी हो गए। एसएसपी शैलेंद्र कुमार मिश्रा ने बताया, ‘हमने घटना का संज्ञान ले लिया है और मामला दर्ज कर लिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। आरोपियों को जल्द पकड़ लिया जाएगा।’

घटना के बाद जख्मी छात्रों को समीप के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जिस छात्र को ज्यादा चोट लगी है उसका नाम रेहान गोरसाई बताया जा रहा है और वह कक्षा दो का छात्र है। छात्र को विशेष इलाज के लिए श्रीनगर के अस्पताल भेज दिया गया है।

वहीं जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूब मुफ्ती ने इस घटना की निंदा की है। उन्होंने ट्वीट किया, शोपियां में स्कूली बस पर हमले की घटना के बारे में जानकर हैरान हो रही है। गुस्सा भी आ रहा है। इस तरह का कुकृत्य करने वालों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी।

बता दें है कि मंगलवार को कश्मीर घाटी में आतंकियों ने तीन बेकसूर नागरिकों को निशाना बनाया था। पुलिस के मुताबिक शुरुआती जांच में पता चला है कि इस हमले को पाकिस्तान स्थित लश्कर-ए-तैय्यबा आतंकी संगठन ने अंजाम दिया। हमलावार आतंकियों में एक पाकिस्तानी भी था। इस आतंकी हमले में मारे गए नागरिकों की पहचान आसिफ अहमद शेख, हसीब अहमद खान और मोहम्मद असगर के रूप में हुई है। ये सभी बारामूला जिले के काकर हमाम के रहने वाले थे।

Facebook Comments