तेज आंधी, वर्षा व ओले से बदला मौसम का मिजाज

तेज आंधी, वर्षा व ओले से मौसम का मिजाज शनिवार को एक बार फिर बदला-बदला रहा। जिले के सरैया, पारू व साहेबगंज में सर्वाधिक ओले पड़े। पारू में ओला की चादर सी बिछ गई। इससे गेहूं की फसल को काफी नुकसान पहुंचा है। मौसम विभाग ने अभी और वर्षा की संभावना व्यक्त की है।

गुरुवार को जिले में गरज के साथ हल्की से मध्यम वर्षा हुई थी। मौसम विभाग के अनुसार तब औसत 6.6 मिमी वर्षा रिकार्ड की गई थी। मानसून से पहले हो रही वर्षा से गेहूं के अलावा अन्य फसलों को लाभ होगा, लेकिन ओलावृष्टि से आम व लीची के फलों को नुकसान होगा।

 डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विवि पूसा के ग्रामीण कृषि विभाग व भारत मौसम विज्ञान विभाग के नोडल पदाधिकारी डॉ. ए सत्तार द्वारा जारी मौसम पूर्वानुमान में गरज वाले बादल बनने व वर्षा की संभावना व्यक्त की गई थी। इसमें यह भी कहा गया कि अगले 24 से 48 घंटों में कहीं-कहीं हल्की वर्षा होगी।
अधिकतम तापमान में 3 से 4 डिग्री सेल्सियस कम रहने की संभावना है। 11 अप्रैल तक अधिकतम तापमान 31 से 32 डिग्री सेल्सियस जबकि न्यूनतम 19 से 21 डिग्री सेल्सियस के बीच रहेगा।
‘स्काईमेट वेदर’ के मुजफ्फरपुर जिला प्रभारी विवेक कुमार सिंह के अनुसार इस समय पूर्वी भारत के राज्यों की मौसम में हलचल मची हुई है। बंगाल की खाड़ी से आर्द्र हवाएं लगातार चल रही हैं। झारखंड के उत्तर-पूर्वी भागों के ऊपर चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र सक्रिय है। इससे मणिपुर तक एक ट्रफ रेवा बनी हुई है। जिससे जिले में नौ अप्रैल तक मानसून पूर्व वर्षा की स्थिति बनी रहेगी।
Facebook Comments