Telengana Update : समय से पहले चुनाव, KCR कांग्रेस और BJP को नहीं देना चाहते मौका

तेलंगाना गौरव और जनकल्याणकारी योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के भरोसे मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव ने समय से पहले विधानसभा भंग करने का ऐलान कर दिया। उनका मानना है कि समय से पहले चुनाव की वजह से विपक्ष की तैयारियों को झटका लगेगा। वे प्रदेश में कांग्रेस को सक्रिय होने और भाजपा के विस्तार की रणनीति को मौका नहीं देना चाहते थे। लोकसभा चुनाव में देशव्यापी माहौल का असर राज्य के चुनाव पर पड़ने की आशंका से मुख्यमंत्री बचना चाहते थे। 2 सितंबर को लाखों लोगों की रैली बुलाकर उन्होंने एक तरह से कैडर को चुनाव के लिए तैयार रहने का संकेत दिया था।

विकास योजनाओं का भरोसा

टीआरएस प्रमुख और मुख्यमंत्री केसीआर की बेटी के. कविता का कहना है कि पार्टी ने पानी, रोजगार, राशन, बिजली, राज्य के सभी जिलों के समान विकास, गरीबों को पेंशन, लड़कियों की शादी के लिए एक लाख रुपये से ज्यादा की सहायता जैसी तमाम योजनाओं का सफल क्रियान्वयन किया है। उनका मानना है कि इन योजनाओं का गहरा असर लोगों पर है। पार्टी नेताओं का मानना है कि मुख्यमंत्री ने इसी भरोसे से चुनाव का ऐलान किया है। विकास को तेलंगाना के मुख्यमंत्री ने प्रदेश के गौरव से जोड़ दिया है। ‘जय तेलंगाना’ का उद्घोष उनकी सभा में होता है। उन्हें तेलंगाना के निर्माता के रूप में पेश करती है।

टीआरएस सबसे मजबूत

सांसद कविता दावा करती हैं कि टीआरएस के मुकाबले बहुत दूर तक कोई नही है। उन्होंने कहा, केसीआर के मुकाबले कोई चेहरा प्रदेश में नहीं है। तेलंगाना में मेडक जिले के भाजपा जिलाध्यक्ष राम चरन यादव ने दावा किया कि भाजपा अध्यक्ष शाह की रणनीति और लगातार दौरों की ब्यूह रचना से भाजपा प्रभाव बढ़ा रही है।

क्या है समीकरण

तेलंगाना बनने के बाद इस इलाके में टीडीपी का आधार कमजोर पड़ गया है। विधानसभा में टीआरएस के 90 विधायक हैं। मुख्य विपक्षी दल के रूप में कांग्रेस के 13 और भाजपा के 5 विधायक है। ओवैसी की अगुवाई वाली एआईएमआईएम के सात विधायक हैं। टीआरएस के आसपास कोई नजर नहीं आता।

जल्दी चुनाव क्यों?

टीआरएस सूत्रों के मुताबिक जल्दी चुनाव से विरोधी दलों की रणनीति ध्वस्त होगी। राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ चुनाव के बाद राष्ट्रीय स्तर पर समीकरण बदलने की उम्मीद भी टीआरएस का एक वर्ग जाहिर कर रहा है। जल्दी चुनाव की एक वजह संभावित मोदी इफेक्ट से बचना भी है।

Facebook Comments