अफवाहों से बचें, पेपर ट्रेल मशीन नहीं क्लिक करती तस्वीर: चुनाव आयोग

चुनाव के मौसम में इस तरह की अफवाहें चल रही हैं कि वोटिंग के समय पेपर ट्रेल मशीन उनकी तस्वीर लेती है। मुख्य चुनाव आयुक्त ने इन खबरों को पूरी तरह खारिज किया है। उन्होंने कहा कि जो लोग वोट के बदले नोट देते हैं वे वोटर्स को यह कहकर गुमराह कर सकते हैं कि पेपर ट्रेल मशीन उनकी तस्वीर क्लिक कर लेती है। उन्होंने ऐसी खबरों के लेकर वोटर्स को सावधान रहने को कहा है

उन्होंने कहा कि यह अफवाह उन लोगों द्वारा फैलाई जा रही है जो वोट हासिल करने के लिए रुपये देते हैं। उन्होंने बताया कि वोटरों को जागरूक करने के लिए वह इसे लेकर अभियान भी चलाएंगे। मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि जो लोग वोट के बदले नोट देते हैं वे वोटर्स को यह कहकर गुमराह कर सकते हैं कि पेपर ट्रेल मशीन उनकी तस्वीर क्लिक कर लेती है।

उन्होंने बताया मतदाताओं को जागरुक करने के लिए अभियान शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘पेपर ट्रेल मशीन के बारे में लोग चाहे जो भी कह रहे हैं, उस पर भरोसा न करें। यह मशीन फोटो क्लिक नहीं करती है।’ वोटर-वेरिफाइएबल पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) जो वोटिंग के बाद आपको एक स्लिप देगी, जिसमें उस पार्टी का चुनाव चिह्न होगा, जिसे आपने वोट दिया है। यह स्लिप आपको मिलेगी, लेकिन इसे वापिस वहीं जमा कर लिया जाएगा, यह स्लिप वोटर घर नहीं ले जा सकेंगे।

Facebook Comments