Live : आर्टिकल 35A पर सुप्रीम कोर्ट में आज सुनवाई, अलगाववादियों का आज भी बंद

जम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले आर्टिकल 35ए की वैधता को चुनौती देने वाली याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में आज यानी सोमवार से सुनवाई शुरू होगी. चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खनविलकर और डी वाई चंद्रचूड़ की बेंच इस मामले की सुनवाई करेगी.

 

राज्य की मुख्य पार्टी पीडीपी, नेशनल कांफ्रेंस के अलावा सीपीएम और कांग्रेस की राज्य इकाई समेत कई स्थानीय राजनीतिक दल और अलगाववादी आर्टिकल 35ए को वर्तमान रूप में बनाए रखने की मांग कर रहे हैं.

इस अनुच्छेद के समर्थन में अलगाववादी नेताओं ने दो दिन (रविवार और सोमवार) के बंद का आह्वान किया है. बंद को देखते हुए जम्मू से अमरनाथ यात्रा 2 दिन के लिए रोक दी गई है.

सरकार ने तारीख आगे बढ़ाने की मांग की

सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार ऑफिस में सुनवाई की तारीख आगे बढ़ाने की मांग करते हुए आवेदन किया है. सरकार ने कहा कि वो राज्य में आगामी पंचायत और नगर निकाय चुनावों के लिए चल रही तैयारियों के मद्देनजर सुनवाई की तारीख आगे बढ़ाना चाहती है.

रविवार को कई इलाकों में हुआ प्रदर्शन

इस आर्टिकल के समर्थन में चिनाब घाटी के जिलों रामवन, डोडा और किश्तवाड़ में रविवार को आंशिक हड़ताल और शांतिपूर्ण प्रदर्शन किए गए. लोगों ने गूल, संगलदान और बनिहाल सहित कई स्थानों पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन किए. पर्वतीय जिलों के कई क्षेत्रों में सड़कों से स्थानीय सार्वजनिक परिवहन नदारद रहा.

आर्टिकल 35ए क्या है?

वर्ष 1954 राष्ट्रपति आदेश के जरिये संविधान में जोड़ा गया अनुच्छेद 35-ए जम्मू कश्मीर के स्थायी निवासियों को विशेष अधिकार देता है. यह राज्य से बाहर के किसी व्यक्ति से शादी करने वाली महिला से संपत्ति का अधिकार छीनता है. यह अनुच्छेद राज्य के बाहर के किसी व्यक्ति को राज्य में अचल संपत्ति खरीदने से रोकता है.

Facebook Comments