9 अगस्त को भारत बंद का किया एलान, SC/ST आरक्षण बिल के विरोध में सवर्ण संगठनों में उबाल

एक बार फिर से आरक्षण को लेकर देश में सरकार के खिलाफ आरक्षित व अनारक्षित वर्ग का विरोध होना शुरू हो गया है। एससी एसटी एक्ट के लिए केंद्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट के आदेश के विरुद्ध अध्यादेश लाने के विरोध में इस बार तमाम सवर्ण संगठनों ने 9 अगस्त को भारत बन्द का एलान किया है। इस बाबत बिहार के कई जिलों में सवर्ण संगठनों ने भारत बंद को लेकर तैयारी शुरू कर दी है।

भारत बंद में ऑल बिहार ब्राह्मण फेडरेशन, ब्रह्मर्षि विकास संस्थान एवं क्षत्रिय महासभा ने किया समर्थन का एलान किया है। इस बाबत दरभंगा जिले में सवर्ण संगठनों ने डीएम को ज्ञापन सौंप कर भारत बंद को लेकर जानकारी दे दी है। वहीं दूसरी तरफ दलित संगठनों ने भी 9 अगस्त को ही भारत बंद का एलान किया है लेकिन इसी बीच लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद चिराग पासवान ने शुक्रवार को अनुसूचित जाति/जनजाति अधिनियम पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले के विरुद्ध दलित संगठनों के नौ अगस्त को प्रस्तावित भारत बंद को वापस लेने का आग्रह किया है।

चिराग पासवान ने कहा कि केंद्र ने इस कानून को बहाल रखने के लिए संशोधन विधेयक पेश कर दिया है ऐसे में दलित संगठनों के भारत बंद का कोई औचित्य नहीं बनता है। वहीँ केंद्र के फैसले की सराहना करते हुए पासवान ने कहा कि उनकी पार्टी को यह विधेयक लाने के सिलसिले में सरकार पर पूर्ण विश्वास था क्योंकि कोई भी नहीं चाहता है कि फिर बंद हो।

बता दें दलित संगठनों ने ऑल इंडिया अंबेडकर महासभा के बैनर तले अपनी मांगों पर दबाव बनाने के लिए नौ अगस्त को भारत बंद करने का आह्वान किया था। इससे पहले एसएसी/एसटी एक्ट में संसोधन की संभावनाओ को देखते हुए दलित संगठनों के 10 अप्रैल को किये गये भारत बंद में कई जगहों से हिंसा की खबर सामने आई थी। इसका असर बिहार के विभिन्न हिस्सों में भी देखने को मिला था। बंद कर रहे आंदोलनकारियों ने कई जगह ट्रेन रोकी, तो कई जगहों पर बाजार बंद करवाकर जमकर बवाल काटा था।

Facebook Comments