7 फेरे के बाद दूल्हे ने लिया 8वां फेरा,बोला- संकल्प लेता हूं,ना दहेज लूंगा ना किसी को लेने दूंगा

इंदौर के नीमच में रविवार रात को एक अनूठी और समाज में चल रही रूढ़ीवादी प्रथा को आइना दिखाने वाली शादी की गई है।

इंदौर की इस शादी में अनोखी चीज देखने को मिला। यहां अहमदाबाद से दुल्हन लेने आए दूल्हे ने सात फेरे पूरे होते ही 8वां फेरा लेना शुरू कर दिया। यह देख वहां मौजूद हर कोई हैरान हो गया। 8वां फेरा पूरा करने के बाद दूल्हे ने कहा कि ये दहेज प्रथा के खिलाफ था। मैंने 8वां फेरा इस संकल्प के साथ लिया है कि ना दहेज लूंगा और ही दहेज दूंगा।

मिली जानकारी अनुसार लायंस डेन में रविवार रात मोहनलाल प्रजापति की बेटी हिना की शादी हुई। यहां शादी के पहले दूल्हे कुलदीप पिता चंपालाल प्रजापति ने पं. भेरूलाल सोनियाना से कहा कि वह दहेज लेने जैसी कुप्रथा को गलत मानता हूं। इसलिए दहेज नहीं लेने के संकल्प के साथ सात फेरों के बाद 8वां फेरा लेना चाहता हूं।

 

दूल्हे की ये बात सभी ने दुल्हे की तारीफ की है। यह सुन पं. सोनियाना ने खुशी जाहिर की और 8वां फेरा कराने की सहमति दी। इसके बाद दूल्हे ने दुल्हन हिना तक अपनी ये बात पहुंचाई। दुल्हन हिना ने भी खुशी-खुशी कुलदीप के फैसले का समर्थन किया। इसके बाद सात फेरे के बाद दोनों ने दहेज ना लेने और ना देने के संकल्प के साथ 8वां फेरा लिया।

दूल्हे ने जब लोगों को इसकी वजह बताई तो लोगों ने सराहना की। कुलदीप ने बताया आजकल दहेज में कार, बाइक रुपए मांग पूरी होने पर पत्नी को प्रताड़ित करता है। नवविवाहिता आत्महत्या को मजबूर हो जाती है। इसलिए आठवां फेरा में दहेज के खिलाफ लिया है। विधायक दिलीपसिंह परिहार, नपाध्यक्ष राकेश जैन ने भी वर-वधू को आशीर्वाद दिया। प्रजापति परिवार के वर-वधू द्वारा लिए गए इस संकल्प से समाज के लोगों को दहेज के खिलाफ खड़े होने का संदेश दिया है।

 

Facebook Comments