Breaking : मुजफ्फरपुर कांड के विरोध में विपक्ष का बिहार बंद, सड़क और रेल परिचालन बाधित

मुजफ्फरपुर के बालिका आश्रय गृह कांड को लेकर बिहार में आज विपक्षी दलों ने जगह-जगह विरोध प्रदर्शन किए। इस विरोध प्रदर्शन में उन्होंने बिहार के सीएम नीतीश कुमार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

मुजफ्फरपुर बालिका आश्रय गृह कांड और दलित कमजोर वर्गों पर हो रहे अत्याचार के खिलाफ बिहार में विपक्षी दलों से बिहार बंद का आह्वान किया है। इस दौरान नीतीश सरकार के दो मंत्रियों की बर्खास्तगी की मांग करते हुए वाम दलों और विभिन्न संगठनों से जगह जगह अपना विरोध प्रदर्शन जताया। इस विरोध प्रदर्शन में सीपीआई, सीपीआई-एमएल, सीपीएम, आरजेडी, एचएएम, कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी पार्टियों और कई जनसंगठनों शामिल थी, जिसमें उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गयी और राज्य में कानून से खिलवाड़ करने वालों पर राज्य सरकार द्वारा ढिलवाई की बात कहीं।


बंद समर्थक जगह जगह सड़को पर निकल गए। एक तरफ जहां राजद के कार्यकर्ताओं ने किशनगंज में बस स्टैंड के समीप एनएच 31 पर जाम करके विरोध प्रदर्शन किया तो वहीं दूसरी तरफ सिवान में माले कार्यकर्ता सड़क पर उतर चुके हैं। सबसे ज्यादा बंद का असर जिस जगह दिखा। वो मुजफ्फरपुर रहा, जहां पर बालिका गृह कांड के दोषियों को फांसी की मांग करते हुए भाकपा माले व अन्य दलों ने जुलूस प्रदर्शन किए।

वहीं बंद का असर रेलवे सेवाओं पर भी पड़ा। जहानाबाद में प्रदर्शनकारियों ने पटना-रांची जनशताब्दी एक्‍सप्रेस को रोका तो मधुबनी में भी गंगासागर एक्सप्रेस को रोका गया।

वहीं इसी बीच आरजेडी के नेता तेजस्वी कुमार ने भी सीएम पर जमकर निशाना साधते हुए एक ट्वीट किया, जिसमें उन्होंने कहा कि ‘मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जी से मुजफ्फरपुर बलात्कार कांड पर मुंह खुलवा कर रहूंगा। उनकी आपराधिक चुप्पी तुड़वा कर रहूंगा। उनकी कुंभकर्णी अंतरात्मा को जगा कर रहूंगा। उनकी फर्ज़ी नैतिकता उजागर करके रहूंगा। उनका बनावटी मुखौटा उतार कर रहूंगा। चाहे जो समय लगे।’

Facebook Comments