चुनावी हिंसा से डरा पाकिस्तान, वोटिंग से पहले एक हजार कफन तैयार

पाकिस्तान में बुधवार को संघ और प्रांतों के चुनाव होने हैं। चुनाव में हिंसा का डर इस कदर हावी है कि, यहां पहले से ही मौत के बाद की प्रक्रिया के लिए तैयारी करके रखी जा रही है। चुनाव में हिंसा का डर इस कदर हावी है कि, यहां पहले से ही मौत के बाद की प्रक्रिया के लिए तैयारी करके रखी जा रही है। पेशावर में चुनाव के दौरान हिंसा की आशंका को देखते हुए 1 हजार कफन पहले से ही तैयार रखें गए हैं। पेशावर के डिप्टी कमिश्नर इसकी जानकारी दी है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक पेशावर के डिप्टी कमिश्नर इमरान हामिद शेख ने बताया कि वह किसी भी स्थिति से निपटने को तैयार हैं। उन्होने कहा वैसे तो 25 तारीख को शांतिपूर्ण चुनाव होने की उम्मीद है। लेकिन किसी भी तरह की आपातकालीन स्थिति तैयारी की गई है। इसमें 1 हजार कफन भी शामिल है डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि, पुलिस ने चुनाव वाले दिन अफगान साथियों के भी शहर में गतिविधियों पर रोक लगा दी है।कमिश्नर ने बताया पेशावर में 1217 बूथ है। जिनमें 655 पुरुषों और 517 महिलाओं के लिए हैं। जबकि 45 पोलिंग स्टेशन पुरुष और महिला दोनों के लिए होंगे। उन्होंने बताया कि पुलिस सीसीटीवी कैमरे के जरिए इन मतदेय स्थलों पर नजर रखेगी। पोलिंग बूथों पर मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी गई है।

आपको बता दें कि पेशावर में हिंसा का इतिहास रहा है और यह कई आतंकी हमलों को झेल चुका है। 10 जुलाई 2018 को एक रैली के दौरान हुए आत्मघाती हमले में 22 लोग मारे गए थे। इसमें अवामी नेशनल पार्टी के उम्मीदवार भी शामिल थे। वहीं साल 2014 में पेशावर स्थित आर्मी स्कूल में तालिबानी आतंकियों ने हमला कर दिया था। जिसमें 149 लोग मारे गए थे जिनमें से 132 स्कूली छात्र थे।

Facebook Comments