एनडीए और कांग्रेस के संदर्भ में राज्यसभा उपसभापति हरिवंश

राज्यसभा उपसभापति चुनाव में एनडीए प्रत्याशी हरिवशं को 125 वोट मिले जबकि कांग्रेस उम्मीदवार हरिप्रसाद को 105 वोट मिले। इस चुनाव में भले ही एनडीए ने जीत हासिल कर ली, लेकिन कांग्रेस के लिए भी कोई घाटे का सौदा नहीं रहा।

दरअसल कांग्रेस को राज्यसभा में खुद की सीट से 55 वोट अधिक मिले हैं। इससे यह स्पष्ट संदेश मिला है कि पूरा विपक्ष एकजुट है तथा इनमें बिखराव की संभावना बिल्कुल कम है। वहीं उपसभापति चुनाव में शिवसेना ने बीजेपी को खुलकर समर्थन दिया, जबकि अविश्वास प्रस्ताव के दौरान इस पार्टी ने वॉक आउट किया था।

जहां एक तरफ राज्यसभा उपसभापति चुनाव के बहाने कांग्रेस को विपक्षी एकजुटता की संभावना सुनिश्चित होती दिखी है। वहीं बीजेपी ने उपासभापति हरिवंश के बहाने जेडीयू को खुश करके अपने रिश्तों को मजबूती प्रदान की है। बता दें कि हरिवंश बिहार से जेडीयू सांसद हैं।

अगर राज्यसभा में बतौर उपसभापति हरिवंश के कामकाज की बात की जाए तो उन्होंने पत्रकारिता से अपनी​ जिंदगी की शुरूआत की है। धर्मयुग से लेकर प्रभात खबर के संपादक रहे हरिवंश समाजवादी नेता चंद्रशेखर के भी करीबी रहे हैं। अनेक देशों की यात्रा कर चुके हरिवंश ने चंद्रशेखर पर कई पुस्तकें भी लिखी हैं। ऐसे में निर्विवाद रूप से निष्पक्ष पत्रकारिता को अंजाम देने वाले हरिवंश राज्यसभा में बतौर उपसभापति सत्ता पक्ष और विपक्ष के लिए एक समान साबित होंगे, इसमें कोई दो राय नहीं है।

Facebook Comments