दबंगों ने महिला से किया गैंगरेप फिर मंदिर के हवन कुंड में जिंदा जलाया

उत्तर प्रदेश के संभल में गैंगरेप के बाद एक महिला को जिंदा जलाए जाने का मामला सामने आया है. इस घटना से यूपी में योगी सरकार के रामराज के दावे और एंटी रोमियो दस्ते की पोल खुल गई है.  प्रदेश में महिलाओं के साथ लगातार अपराधिक घटनाएं घट रही हैं और योगी सरकार इन्हें रोक पाने में बिलकुल नाकाम साबित हो रही है. हैरानी की बात ये है की महिला ने मरने से पहले पुलिस की डायल 100 सेवा को काल की लेकिन कॉल नहीं लग पाई जिसके बाद उसने अपने भाई को फोन कर बताया की कुछ लोग उसके घर में घुंस आए हैं और उसकी बेइज्जती कर रहे हैं और उसे जिंदा जला कर मारने की धमकी दे रहे हैं.

ये उस महिला की आखरी फोन कॉल साबित हुई और दरिंदो ने उसके साथ तमंचे के बल पर पहले उसी के घर में गैंगरेप की घटना को अंजाम दिया और बाद में उसे घर से उठा कर पास के एक मंदिर में ले गए और वहां हवन कुंड की झोपड़ी में उसे जिंदा जला कर मार दिया. दो दिन गुज़र जाने के बाद भी पुलिस के हाथ ख़ाली हैं और वो आरोपियों को गिरफ्तार तक नहीं कर पाई है. घटना राजपुरा थाना इलाके के पाठकपुर गांव की है.

महिला का पति गाज़ियाबाद में मजदूरी करता है. घटना के समय महिला अपनी सात साल की बेटी के साथ घर में अकेली सो रही थी. तभी गांव के 5 नामज़द अभियुक्त महावीर , आराम सिंह, चरण सिंह, गुल्लू और भौना घर में आ घुंसे और महिला के साथ उन्होंने हथियारों के बल पर गैंगरेप किया. आरोपी महावीर रिश्ते में मृतक का जेठ बताया जाता है और बाकि रिश्ते के भतीजे लगते हैं.

मृतका ने अपने भाई को बताई थी सारी बात
रिपोर्ट के मुताबिक 13 जुलाई को आरोपियों ने महिला से उसके घर आने वाले लोगों को लेकर आपत्ति जताई थी और बाद में महिला के पति से भी फोन पर उनकी कहासुनी हुई थी. इसी बात को लेकर आरोपी रात के लगभग 2.30 बजे मृतका के घर में आ घुंसे और गैंगरेप की घटना को अंजाम देकर चले गए इसी बीच मृतका ने अपने रिश्ते के भाई सतीश को फोन कर पूरी घटना बताई लेकिन थोड़ी देर बाद ही आरोपी दोबारा आए और मृतका को घर से उठा कर ले गए और पास के मंदिर के हवन कुंड में उसे जिंदा जला कर मार दिया.

आरोपियों के खिलाफ बलात्कार और हत्या का मुकदमा दर्ज
पुलिस ने पांचो नामजद आरोपियों के खिलाफ बलात्कार और हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है और अब वो सभी आरोपियों की तलाश में जगह जगह दबिश दे रही है. लेकिन कोई भी आरोपी अभी तक पुलिस की गिरफ्त में नहीं आया है. पोस्ट मार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण जलना बताया गया है. जबकि बलात्कार की पुष्टि के लिए स्लाइड रिपोर्ट एफ़ एस एल लैब मुरादाबाद भेजी गयी है. एडीजी बरेली ज़ोन प्रेम प्रकाश ने रविवार शाम को संभल पहुंचकर घटना स्थल का निरिक्षण किया और आरोपियों की जल्द गिरफ़्तारी के आदेश दिए हैं. इस बीच लापरवाही के आरोप में एक चौकी इंचार्ज और दो सिपाहियों सहित तीन पुलिस वालों को लाईन हाज़िर कर दिया गया है. घटना से उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े हो रहे हैं.

Facebook Comments