तुलसी के इस मन्त्र के जाप से बन सकते है धनवान पुरूषोत्तम मास में …..

इस साल 1 मई से ज्येष्ठ महीना शुरू हो गया है इस माह में सूर्य के शक्तिशाली रूपों की पूजा करना शुभ माना जाता है. इस माह के मध्य में से अधिक मास की शुरुआत ने इस माह की महत्वता को ओर बढ़ा दिया है. इस माह को पुरुषोत्तम मास भी कहा जाता है.

हिंदू धर्म में पुरुषोत्तम मास को बहुत ही पूजनीय माना जाता है. ज्येष्ठ महीने को ही पुरुषोत्तम मास कहा जाता है, जो कि इस बार 16 मई से 13 जून तक रहेगा.इस मास में सूर्य की आराधना व्रत, तीर्थ स्नान, भागवत पुराण, ग्रंथों का अध्ययन,विष्णु यज्ञ आदि से भगवान सूर्य की कृपा बरसाती है और घर में धन,धान्य और सम्मान में वृद्धि मिलती है.

 

इस महीने में भगवान श्रीकृष्ण या विष्णु की पूजा होती है. हिंदू धर्म के अनुसार इस मास में तुलसी की पूजा करने का विशेष महत्व होता है, जिससे धन लाभ होता है.पुरुषोत्तम मास में रोज सुबह जल्दी उठकर स्नान करके तुलसी के पौधे की पूजा व परिक्रमा करना तथा गाय के शुद्ध घी का दीप जलाकर पूर्व की दिशा की ओर मुंह करके एकांत में बैठकर तुलसी की माला से इस मंत्र का जाप करना चाहिए.

 

मंत्रः
वृंदा वृंदावनी विश्वपूजिता विश्वपावनी
पुष्पसारा नंदनीय तुलसी कृष्ण जीवनी
एतनामांष्टक चैव स्त्रोतं नामर्थं संयुतम
यः पठेत तां च सम्पूज्य सौश्रमेघ फलंलभेत

Facebook Comments