1 किलो 700 ग्राम सोने के मालिक हैं बप्पी लाहिड़ी, 55 लाख की गाड़ी से हैं चलते हैं बप्पी दा..

म्यूजिक डायरेक्टर और सिंगर बप्पी लाहिड़ी की बॉलीवुड में एक अलग पहचान हैं। उनके गानों और मस्त-मौला अंदाज हर किसी को पसंद आता हैं। उनकी लाइफस्टाइल और ड्रेसिंग स्टाइल ने उन्हें एक अलग पहचान दी हैं।बता दें आज यानी 27 नवंबर(1952) को बप्पी लहिड़ी 66 साल के हो जाएंगे। उनका असली नाम आलोकेश लाहिड़ी है।

फिल्म इंडस्ट्री में डिस्को म्यूजिक का ट्रेंड लाने का श्रेय उन्हें ही दिया जाता है। डिस्को म्यूजिक के अलावा बहुत ज्यादा सोना पहनना और हमेशा गॉगल्स पहनना भी बप्पी दा की पहचान है। उनके पास टेस्ला X कार है जिसकी कीमत 55 लाख रु. है। 2014 में चुनाव के दौरान बप्पी ने भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन की थी और पश्चिम बंगाल के श्रीरामपुर से पार्टी ने उन्हें टिकट दिया था। बप्पी ने 2014 में चुनाव आयोग के समक्ष दायर अपने शपथ पत्र में अपने पास मौजूद गोल्ड का ब्यौरा दिया था। उनके पास 754 ग्राम सोना है, जबकि उनकी पत्नी चित्राणी के पास 967 ग्राम सोने के गहने हैं। यानी कि 1 किलो 700 ग्राम उनके पास सोना है। आज कि डेट में इसकी कीमत 51 लाख हैं। यहीं नहीं, बप्पी ने अपने घर में हिट गानों की याद में गोल्ड प्लेटेड डिस्क लगाई हुई है।

कोलकाता में जन्मे बप्पी दा के माता-पिता बंगाली सिंगर और क्लासिक म्यूजिशियन थे। वो अपने माता-पिता की इकलौती संतान थे। मां की तरफ से सिंगर और एक्टर किशोर कुमार उनके रिश्तेदार थे। बप्पी दा की पत्नी का नाम चित्रांशी है और उनके दो बच्चे हैं। बेटी रीमा भी सिंगर है और उनकी शादी बिजनेसमैन गोविंद बंसल से हुई है। वहीं, बप्पी दा के बेटे का नाम बप्पा लाहिड़ी है, जो म्यूजिक डायरेक्टर हैं और उनकी शादी तनिषा वर्मा से हुई है।

बप्पी लाहिड़ी दादा बन चुके हैं उनके बेटे बप्पा लाहिड़ी के 4 अक्टूबर 2017 को अमेरिका में बेटा हुआ था। 22 मार्च को हुए पोते के नामकरण पर बप्पी ने सोने की थाली में खीर खिलाई और डायमंड का पेंडिल गिफ्ट किया था। यही नहीं, बप्पी ने बेटे के साथ मिलकर बेंटले कार दी थी जिसकी कीमत 3 से 4 करोड़ है।

संगीत से जुड़े परिवार से होने के कारण उनकी ट्रेनिंग कम उम्र में ही शुरू हो गई थी। 3 साल की उम्र में बप्पी दा ने तबला बजाना शुरू किया था। 19 साल की उम्र में मुंबई आने के बाद उन्हें पहला ब्रेक बंगाली फिल्म (दादू, 1972) में मिला। वहीं, 1973 में आई फिल्म ‘शिकारी’ पहली हिंदी फिल्म थी, जिसके लिए उन्होंने म्यूजिक कंपोज किया था। 1980 और 90 के दशक में बप्पी दा ने कई जबरदस्त साउंड ट्रैक्स बनाए जिसमें वारदात, डिस्को डांसर, नमक हलाल, डांस डांस, कमांडो, गैंग लीडर, शराबी जैसी फिल्में शामिल हैं। वो ऐसे पहले म्यूजिक डायरेक्टर थे जिसे 1982 में आई फिल्म ‘डिस्को डांसर’ के लिए बीजिंग में ‘चायना अवॉर्ड’ मिला था।

Facebook Comments