हाईकोर्ट का फैसला- अपने से छोटे ब्यॉवफ्रेंड के साथ लिव इन में रह सकती है लड़की

गुजरात हाई कोर्ट ने दो प्रेम करने वालों के पक्ष में एक फैसला सुनाया है. एक 20 साल की लड़की को गुजरात हाई कोर्ट ने इजाजत दी है कि वो अपने से उम्र में छोटे अपने प्रेमी के साथ रहने के लिए स्वतंत्र है. कोर्ट ने कहा है कि लड़की बिना शादी किए भी अपने बॉयफ्रेंड के साथ रह सकती है. कोर्ट ने कहा है कि अगर लड़की अपने परिवार के साथ नहीं रहना चाहती तो वो अपने बॉयफ्रेंड के साथ रह सकती हैं.

उम्र लड़की से कम है. लड़के की उम्र केवल 19 साल है. और यही उन दोनों के रिश्ते बीच का सबसे बड़ा कानूनी पेंच है.

अदालत ने ये फैसला लड़के की ओर से दायर एक याचिका की सुनवाई में दिया है. कोर्ट ने ये कहा है कि बाल विवाह निषेध कानून के तहत लड़का 21 साल का होने तक शादी नहीं कर सकता. इस मामले में कोर्ट ने कहा है कि लड़की बालिग है और वो अपनी मर्जी से किसी के साथ भी रिश्ता रखने को स्वतंत्र है. और लड़की अगर अपने परिवार से सवतंत्र होकर रहना चाहती है तो वो रह सकती है. कोर्ट ने ये भी कहा है सरकार की ओर से उसे अनुरक्षण दिया जाएगा.

इस बारे में 19 जुलाई को एक याचिका दायर की गयी थी जिसमे कहा गया यह कि लड़की के घर वाले लड़की को कैद रखते हैं और उसके बॉयफ्रेंड से उसे मिलने नहीं देते. लड़की बालिग है और वो अपने परिवार से स्वतंत्र होकर रहना चाहती है तो रह सकती है. लड़के की उम्र 21 साल से कम होने के कारण दोनों शादी नहीं कर सकते इसलिए प्रेमियों ने लिव इन कॉन्ट्रेक्ट साइन करने का फैसला किया. इसके लिए दोनों ने बाकायदा दस्तावेजी कार्रवाई भी की.

Facebook Comments