Military : डोकलाम में चीनी गतिविधियों की रिपोर्ट को भारतीय सेना ने किया खारिज

भारत और चीन के बीच विवाद का एक कारण डोकलाम में चीनी सेना की गतिविधियों को भारतीय सेना ने खारिज कर दिया है। भारतीय सेना ने कहा कि चीन ने क्षेत्र में अपनी मौजूदगी नहीं बढ़ा रहा है, बल्कि वह अपनी मौजूदा चौकियों पर जवानों को बदल रहा है। बता दें, पिछले साल यहां 73 दिनों तक दोनों देशों की सेनाओँ में तनातनी की स्थिति बनी रही थी।

नाम न छापने की शर्त पर सेना के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि चीन ने तोर्सा नुल्लाह को क्रॉस करने की कोई कोशिश नहीं की। यह 100 स्कवायर मीटर में फैला वह पठार है, जहां भारत, चीन और भूटान की सीमा मिलती है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि जमीनी स्तर पर कोई बदलाव नहीं है। भारत, चीन और भूटान तीनों ही देश सर्दियों के लिए इस क्षेत्र में अपनी चौकियां बना रहे हैं। जब इन चौकियों पर जवानों को बदला जाता है तो अस्थाई तौर पर चौकियों की संख्या दोगुनी हो जाती है। इस दौरान वहां पर पहले से मौजूद जवान नए आए जवानों को वहां की स्थितियों के बारे में बताते हैं।

चमोली के तनजुन में भी दिखे थे चीनी सैनिक
डोकलाम में चीनी सैनिकों की गतिविधियों के बाद चमोली जिले के तनजुन ला में चीनी सैनिकों के भारतीय सीमा में 200 मीटर अंदर तक देखे जाने की सूचना मिली थी। इन खबरों के बाद चमोली के जिला प्रशासन ने 18 अधिकारियों का एक दल मौके के लिए रवाना किया था। हालांकि, आधिकारिक तौर पर चीनी सैनिकों के घुसपैठ की पुष्टि नहीं हुई।

आईटीबीपी के सूत्रों का कहना है कि इसी महीने तीन, छह, आठ और दस जुलाई को चीनी सैनिक सीमा रेखा तनजुन ला से 200 मीटर तक अंदर घुसे। आठ जुलाई को 32 सैनिक वहां गाड़ियों और घोड़ों में नजर आए। दस जुलाई को पांच मोटर साइकिलों में फिर से चीनी सैनिक वहां देखे गए। आईटीबीपी के विरोध के बाद सैनिक वापस लौट गए।

Facebook Comments