Home राष्ट्रीय ईमानदारी की मिसाल, गरीब रिक्शेवाले ने लौटाया सोने, हीरे और रुपयों से...

ईमानदारी की मिसाल, गरीब रिक्शेवाले ने लौटाया सोने, हीरे और रुपयों से भरा बैग

कोलकाता के एक रिक्शेवाले को सोने, हीरों और रुपयों से भरा एक बैग मिला। यह बैग वह अपने पास रख सकता था। एक अच्छी जिंदगी जी सकता था। अपने बीमार बेटे का अच्छे से अच्छा इलाज करा सकता था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। उसने ईमानदारी दिखाई और उस बैग को उसके असली मालिक तक पहुंचाया।

यह रिक्शावाला हावड़ा का रहने वाला मंटू साहा (54) है। दुबई के रहने वाले रुक्मणी देवी (58) लिलुआ स्थित अपने एक रिश्तेदार के यहां आई थीं। वह शुक्रवार को बजरंगबली मार्केट में कुछ शॉपिंग करने गईं। यहां उन्होंने 2.98 लाख रुपये कीमत के सोने और हीरे के जेवर खरीदे। यह जेवर उन्होंने अपने बैग में रखे और इसी बैग में 60,000 रुपये बचे हुए कैश भी रख लिए।

वह मंटू के रिक्शे में बैठीं और अपने घर के बाहर उतर गईं। वह अपना बैग उसके रिक्शे में ही भूल गईं। जब वह घर पहुंची तो उन्होंने ध्यान दिया कि अपना बैग वह रिक्शे में ही भूल गई हैं। वह तत्काल बेलूर थाने पहुंचीं और यहां बैग खो जाने की एफआईआर दर्ज कराई।

थाने पहुंचकर बैग किया वापस
इधर मंटू अपने घर पहुंचा तो उसने रिक्शे में रखा हुआ बैग देखा। वह अपनी टूटी झोपड़ी के अंदर गया। उसने अपनी पत्नी अनु को बैग दिखाया। उन लोगों ने बैग के अंदर रखी जूलरी और कैश देखा उसके बाद फैसला लिया कि वह बैग वे लोग वापस कर देंगे। अनु और मंटू अपने दो बेटों और दो बेटियों को घर पर छोड़कर थाने पहुंचे और वहां बैग वापस किया।

थाने के इंचार्ज स्वपन साहा ने रुक्मणी को फोन करके बुलाया और उनके बैग की पहचान करवाई। वह मंटू की ईमानदारी से बहुत खुश हुईं। उन्होंने उसे 10,000 रुपये कैश दिए। जब रुक्मणी को पता चला कि मंटू किराए का रिक्शा चलाकर परिवार का पेट पालता है तो उन्होंने उससे वादा किया है कि दुबई लौटकर वह उसे रुपये भेजेंगी ताकि वह अपना खुद का रिक्शा खरीद सके।

Facebook Comments