भारतीय मिट्टी का कमाल विदेशी डॉक्टरों ने माना: पूरी दुनिया में मशहूर है भारत का देसी नुस्‍खा..कैंसर की करता है छुट्टी

भारत की मिट्टी में जादू है। ये सोना भी उगलती है और संजीवनी भी उगाती है। यहां आयुर्वेद को माना जाता है। आयुर्वेद की माने तो भारत में मौजूद ऐसी कई प्राकृतिक दवाईयां जिनसे कैंसर जैसी भयंकर बीमारी का इलाज हो सकता है।


दोस्तों कैंसर एक ऐसी बीमारी है जो किसी को नहीं छोड़ती। ये मोटी आदमी को भी हो सकती है और पतले को भी। ये गरीब को भी होती है और पैसे वालों को भी। इसलिए इससे बचने का एक ही उपाय है, कि कैंसर को पैदा ही ना होने दिया जाए। क्योंकि अगर ये एक बार हो गया तो इसे ठीक कर पाना बहुत मुश्किल हो जाता है।

आज हम आपको एक ऐसे आयुर्वेद के बारे में बताने जा रहे हैं जो कैंसर से आपकी रक्षा कर सकता है। अमीर अमीर लोगों को कैंसर से पीडित होने की खबर सुनकर आपके मन भी ख्‍याल आया होगा कि इसका सस्‍ता और असरकारी तरीका क्या है? ताकि इस भयंकर बीमारी से बचा जा सके। आइए जानते हैं दोस्तों।


गौमूत्र
मित्रो कैंसर हमारे देश मे बहुत तेज़ी से बड़ रहा है । हर साल बीस लाख लोग कैंसर से मर रहे हैं और हर साल नए केस आ रहे हैं । और सभी डॉक्टर्स हाथ-पैर डाल चुके है । कैंसर के मरीज को कैंसर से मौत नही होती है, जो ट्रीटमेंट उसे दिया जाता है उससे मौत सबसे अधिक होती है। साफ शब्दों में कहें तो कैंसर से ज्यादा खतरनाक कैंसर का इलाज होता है । आप सभी जानते है .. Chemotherapy दिया जाता है, Radiotherapy दिया जाता है जो कि बहुत जानलेवा होता है।

इस इलाज से शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बिलकुल ख़तम हो जाती है । जब Chemotherapy दिए जाते है तो डाक्टर ये बोलते हैं कि हम कैंसर के सेल को मारना चाहते हैं लेकिन होता क्या है अच्छे सेल भी उसी के साथ मर जाते हैं। कुछ वैज्ञानिक और डॉक्टरों का दावा है कि गौमूत्र से मुंह, फेफडों, किडनी, त्‍वचा, सर्विक्‍स और ब्रेस्‍ट कैंसर का ईलाज संभव है।


गौमूत्र में कैल्शियम, आयरन, फास्‍फोरस, पोटाशियम, कार्बोनिक एसिड, नाइट्रोजन, मैंगनीज़, सल्‍फर, अमोनिया, फास्‍फेट, यूरिया, अमीनो एसिड एंजाइम्‍स, यूरिक एसिड, साइटोकिन और लैक्‍टोज़ होता है। गाय के मूत्र में 95 प्रतिशत पानी के साथ 2.5 पर्सेंट यूरिया, खनिक, 2.5 प्रतिशत एंजाइम्‍स, हार्मोंस और 24 तरह के नमक मौजूद होते हैं।

गौमूत्र का सेवन करने से कैंसर का प्रभाव कम करता है और कैंसर से लड़ने की शारीरिक क्षमता को बढाता है। लगातार सेवन करते रहने से धीरे-धीरे कैंसर खत्म हो जाता है। इसमें कैंसर को रोकने वाले प्राकृतिक एजेंट टैक्सॉल को क्रियाशील करने में सहायक होता है। कैंसर के अलावा यह डायबिटीज के मरीजों के लिए भी फायदेमंद होता है।

4 चम्मच गौमूत्र का सुबह-शाम सेवन करना हृदय रोगियों के लिए लाभकारी होता है। जोड़ों में दर्द होने पर गौमूत्र इस्तेमाल किया जाता है। दर्द वाले स्थान पर गौमूत्र से सेंक करें। दांत दर्द एवं पायरिया में गौमूत्र से कुल्ला करने से लाभ होता है. इसके अलावा पुराना जुकाम, नजला, श्वास- गौमूत्र एक चौथाई में एक चौथाई चम्मच फूली हुई फिटकरी मिलाकर सेवन करें।

Facebook Comments