आप कभी अमीर बनेंगे या नहीं, इस एक तरीके से 14 मिनट में हो सकता है मालूम

ज्योतिष की मान्यता है कि कुंडली में कुछ विशेष योग होते हैं, जिनके प्रभाव से कोई व्यक्ति धनवान बनता है। यहां जानिए ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार भृगु संहिता में बताए गए कुंडली में कुछ ऐसे योग जो व्यक्ति को धनवान बना सकते हैं।

जन्म कुंडली का दूसरा घर या भाव धन को दर्शाता है। कुंडली का दूसरा भाव धन, खजाना, सोना, मोती, चांदी, हीरे आदि से संबंधित है। साथ ही, व्यक्ति के पास कितनी स्थाई संपत्ति जैसे घर, भवन-भूमि होगी, दूसरे भाव से इस बात पर विचार किया जाता है।  जिस व्यक्ति की कुंडली में द्वितीय भाव में कोई शुभ ग्रह हो या शुभ ग्रहों की दृष्टि हो, उसे धन प्राप्त होता है।


अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में बुध द्वितीय भाव में हो और उस पर चंद्र की दृष्टि हो तो व्यक्ति कड़ी मेहनत के बाद भी आसानी से अमीर नहीं बन पाता है। अगर किसी व्यक्ति की कुंडली के द्वितीय भाव में चंद्रमा हो तो वह धनवान बनता है।

यदि द्वितीय भाव के चंद्र पर नीच के बुध की दृष्टि पड़ जाए तो उस व्यक्ति के परिवार का धन नष्ट हो जाता है। यदि चंद्रमा अकेला हो और कोई भी ग्रह उससे द्वितीय या द्वादश न हो तो व्यक्ति आजीवन गरीब ही रहता है।


ऐसे व्यक्ति को आजीवन अत्यधिक परिश्रम करना होता है, लेकिन वह अधिक पैसा नहीं प्राप्त कर पाता। यदि द्वितीय भाव में किसी पाप ग्रह की दृष्टि हो तो व्यक्ति धनहीन होता है।  यदि सूर्य और बुध द्वितीय भाव में स्थित हो तो ऐसे व्यक्ति के पास पैसा नहीं टिकता।

 

Facebook Comments