…..और इस तरह चमकी थी करुणानिधि की किस्मत

दक्षिण भारत के कद्दावर नेता और तमिलनाडु के पांच बार मुख्यमंत्री रहे एम. करुनानिधि के जीवन में नाम बदलने की घटना ही ऐसी है जो उनके जीवन का टर्निंग प्वाइंट साबित हुई और उन्हें सियासत के ऊंचे मुकाम पर पहुंचा दिया.

दरअसल तमिलनाडु के एक औद्योगिक शहर कलुकुडी में डालमियां ने एक सीमेंट फैक्टरी स्थापित की. चूंकि डालमियां को उत्तर भारत का प्रतीक माना जा रहा था इसलिए फैक्टरी लगाने का विरोध तो हुआ था लेकिन मामला तब गंभीर हो गया जब कलुकुडी का नाम बदल कर डालमियापुरम कर दिया गया.

इसे दक्षिण भारत पर उत्तर भारत के आधिपत्य के रूप में डीएमके की तरफ से प्रचारित किया गया. करुणानिधि ने कलुकुडी का नाम बदलने का पुरजोर विरोध किया.

प्रदर्शन में 2 लोगों की मौत भी हो गई. यही वह टर्निंग प्वाइंट था जहां से करुणानिधि पहली बार दक्षिण भारतीय खासकर द्रविड़ स्वाभिमान के प्रतीक के रूप में स्थापित होने लगे.

Facebook Comments