यह है दुनिया की ऐसी औषधि जिसे खाने से लकवा और सूंघने से मिर्गी तुरंत ठीक हो जाती है

आज की लाइफ स्टाइल काफी बदल गई है| पहले के मुकाबले लोग प्राकृतिक चीजों से अनजान है| आज के इस समय में हर कोई किसी न किसी रोग से ग्रस्त है| लेकिन आज के समय में भी कुछ ऐसे रोग हैं| जिनका इलाज लगभग नामुमकिन है| जैसे कि लकवा और मिर्गी| यदि यह रोगे एक बार किसी व्यक्ति को हो जाते हैं| तो फिर ठीक होने का नाम नहीं लेते और इनके लिए डॉक्टर भी हर तरह की दवा बनाने में असफल रहे हैं| लेकिन आज के इस पोस्ट में हम आपको इन रोगों को ठीक करने के लिए एक ऐसी औषधि के बारे में बताने वाले हैं| जो दुनिया की सबसे बेहतरीन औषधि मानी जाती है| जिसे खाने से लकवा ठीक हो जाता है| और सूंघने से मिर्गी हमेशा के लिए खत्म हो जाती है| तो आइए जानते हैं इस औषधि के बारे में विस्तार से…

औषधि बनाने के लिए आवश्यक सामग्री

  • अकरकरा पिसा हुआ 15 ग्राम
  • मुनक्का का बीज 30 ग्राम

उपयोग करने की विधि

१.15 ग्राम पिसा हुआ अकरकरा और 30 ग्राम बीज निकले हुए मुनक्का को मिलाकर उसकी चने के आकार की गोलियां बनाकर छाया में सुखा लें| अब सुबह और शाम एक-एक गोली ले इससे लकवा ठीक हो जाता है|

२.पिसी हुई अकरकरा को नाक में सूंघने से मिर्गी का रोग पूरी तरह से ठीक हो जाता है|

दुष्प्रभाव

१.अकरकरा का बाह्य प्रयोग अधिक मात्रा में करने से त्वचा का रंग लाल हो जाता है| तथा उस पर जलन भी होती है|

२.यदि इसका सेवन आंतरिक रूप से अधिक किया गया हो तो इससे नाड़ी की गति बढ़ने, जी मिचलाना, दस्त लगना, उबकाई आना, रक्तपित्त, बेहोशी छाना आदि दुष्प्रभाव पैदा हो जाते हैं| फेफड़ों के लिए भी यह हानिकारक होता है क्योंकि इससे उनकी गति बढ़ जाती है|

Facebook Comments