इन पांच आत्माओं को मुक्ति दिलाना चाहता था ललित, भाटिया परिवार की मौत की वजह ये है

दिल्ली के बुराड़ी में 11 लोगों की डेथ मिस्ट्री में क्राइम ब्रांच को 2015 का एक रजिस्टर हाथ लगा है जिसको खंगालने के बाद क्राइम ब्रांच ने सर पकड़ लिया है. रोज के अजीबो-गरीब खुलासे के बीच कभी यह केस हत्या का लगता है तो कभी अन्धविश्वास के कारण आत्महत्या का. अब इस रजिस्टर के हिसाब भाटिया परिवार का ललित अपने पिता के अलावा अन्य 4 लोगों की आत्मा को मुक्ति दिलाना चाहता था.

दरअसल क्राइम ब्रांच का अब मिले पन्नों के आधार पर यह मानना है कि रात में की गई क्रिया और पूजा पाठ इसलिए की गई थी क्योंकि ललित 5 लोगों की आत्मा को मुक्ति दिलाना चाहता था. 9 जुलाई 2015 को लिखे एक पन्ने में लिखा है, ‘अपने सुधार में गति बढ़ा दो. तुम्हारा धन्यवाद करता हूं कि तुम भटक जाते हो पर फिर एक दूसरे की बात मानकर एक छत के नीचे मेल मिलाप कर लेते हो. पांच आत्माएं अभी मेरे साथ भटक रही है अगर तुम अपने में सुधार करोगे तो उन्हें भी गति मिलेगी. तुम तो सोचते होंगे कि हरिद्वार जाके सब कुछ कर आएं तो गति मिल जाएगी. जैसे मैं इस चीज़ के लिए भटक रहा हूं ऐसे ही सज्जन सिंह, हीरा, दयानंद और गंगा देवी मेरे सहयोगी बने हुए हैं. ये भी यही चाहते हैं कि तुम सब सही कर्म करके अपना जीवन सफल बनाओ, अगर हमारे नियमित काम पूरे हो जाएंगे तो हम अपने वास को लौट जाएंगे…’

घटना वाली रात भी ललित ने इस पूजा के लिए अपने घर वालों को कई काम सौंप रखे थे, जिसके बाद सामने के घर के CCTV फुटेज में देखा जा सकता है कि कैसे घर के बच्चों से लेकर बड़े लोग भी पूजा के व्यस्त नजर आए. क्राइम ब्रांच अब सज्जन सिंह, हीरा, दयानंद, गंगा देवी का पता लगा रही है. सूत्रों के अनुसार ललित के पिता अन्धविश्वास के बिलकुल खिलाफ थे.

Facebook Comments