लापरवाही बरतने पर बिहार के 39 बीएड कॉलेजों की मान्यता रद्द करने का आदेश

राज्यपाल लालजी टंडन ने प्रदेश के 39 बीएड कॉलेजों की मान्यता रद्द कर दिया है. राज्यपाल सचिवालय ने उन सभी संबंधित विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को इन कॉलेजों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का आदेश जारी किया है, जिनमें ये सभी कॉलेज शामिल हैं या संबद्ध हैं. ये सभी 39 बीएड कॉलेज मगध, मजहरूल हक अरबी एवं फारसी, पटना और पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के अधीन आते हैं.

इन सब कॉलेजों में लापरवाही बरतने और गैरजिम्मेदार रवैया अपनाने की बात सामने आई थी. इनमें मगध विश्वविद्यालय के 23, पाटलिपुत्र विश्वविद्यालय के 05 और मौलाना मजहरूल हक अरबी-फारसी विश्वविद्यालय के 11 बीएड कॉलेज शामिल हैं.

इन विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को कार्रवाई करने को कहा गया है. गौरतलब है कि राजभवन के लगातार निर्देश के बाद भी आदेश के अनुपालन में विफल रहने वाले कॉलेजों को कार्रवाई के दायरे में लाने का फैसला लिया गया.

ये भी पढ़ें- मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामला : ब्रजेश ठाकुर के दो करीबी सहयोगी गिरफ्तार

दरअसलराजभवन की ओर से 26 अक्टूबर को कॉलेज इंस्पेक्टरों की बैठक में पूरे मामले की समीक्षा की गई थी. यह पाया गया कि बार-बार कहने के बाद भी इन 39 बीएड कॉलेजों ने अपने-अपने क्लास रूम की तस्वीरें बीएड पोस्ट नामक एप पर अपलोड नहीं की.

यह एप राज्यपाल सचिवालय के स्तर से संचालित किया जाता है. इस पर बीएड कॉलेजों को अपने क्लास रूम की तस्वीर रोजाना अपलोड करने का प्रावधान है, जिससे शिक्षा व्यवस्था की चुस्त मॉनीटरिंग की जा सके.

जांच में यह बात भी सामने आयी है कि इन बीएड कॉलेजों ने एनसीटीई की मान्यता से संबंधित नियमों के अलावा विश्वविद्यालयों के संबद्धता के प्रावधानों का भी पालन नहीं किया है.

Facebook Comments