मोदी की राजनीति: फिर दिया भोले किसानो को आश्वासन की दो गुनी होगी कमाई

प्रधानमंत्री मोदी ने चुनाव की तैयारी अभी से शुरू कर दी है और इसके लिए वो देश के 5 राज्यों में भी गए और वह के किसानो को अपनी नयी योजना के बारे में भी समझाया और उनसे काफी देर तक बात चीत भी की, मोदी ने किसानो से कहा की आपको कम से कम लागत मूल्य 50 प्रतिशत तक बढ़ाने का वादा करते है।

मोदी ने उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, महाराष्ट्र, कर्नाटक, और पंजाब के किसानो से मिलकर और उनके केंद्रीय मंत्री से भी बातचीत करी। बाघपत के संसद और किसानो के नेता सत्यपाल सिंह और पूर्व केंद्रीय मंत्री संजीव बलयान से भी उन्होंने 40 मिनट तक खेती किसानी को बढ़ाने और उसको उच्च स्तर पर पहुंचने की बात कही।

सत्यपाल सिंह ने यह भी बताया की NDA की सरकार ने इस महीने 8500 करोड़ रुपए का बजट बनाया है किसानो को उच्च मूल्य देने के लिए और उनका विकास करने के लिए इसके साथ ही 4000 करोड़ रुपए उन किसानो के दिए जायेंगे जो गन्ने की खेती कर रहे है और इससे उन्हें अच्छी रकम देने का भी वादा किया गया है।

“किसानो का कहना है की गन्ने की खेती बहुत ही अधिक मात्रा में हो चुकी है और शुगर मिल वाले इसे खरीदने से इंकार कर रहे है और सरकार के दबाओ में आकर यदि वो खरीदते भी है तो हमे उच्च मूल्य नहीं मिल पाता। हमारी सबसे बड़ी चिंता यही है की अगर मिल वालो ने यह गन्ने नहीं खरीदे तो फिर हम क्या करेंगे” ऐसा एक किसान ने कहा और यह बात भी मोदी के सामने रखी गयी।

मोदी ने इस पर यह कहा की आपको जरूर से मदद दी जाएगी और आपकी कमाई को हम दो गुना तक बढ़ा भी देंगे, 2022 तक आप लोगो को यह सारी चिंताओं से मुक्ति भी मिल जाएगी।

सिकंदर सिंह मलूका जो की पूर्व नेता और अकाली दल का नेतृत्व करते है उन्होंने सरकार की इस नयी योजना की काफी तारीफ की और कहा की यदि किसानो को सही कीमत मिलने लग जाये तो उन्हें फिर किसी भी योजना की आवशयकता नहीं है।

मोदी का अचानक घरघर जाना और किसानो को आश्वासन देना क्या सच में उनके कर्तव्य का हिस्सा है या फिर चुनावी राजनीति? यह तो हम नहीं जानते पर अच्छा यह है की किसानो का कुछ तो भला हुआ।

Facebook Comments