Monsoon Alert : उत्तराखंड पर भारी अगले 72 घंटे,कई इलाकों में भारी बारिश से मच सकती तबाही

देश के कई हिस्सों में मौसम ने तबाही मचा रखी है। खासकर मैदानी इलाकों में लगातार हो रही बारिश से लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बताया जा रहा है उत्तराखंड के कई इलाकों में बारिश ने काफी तबाही मचाई है। पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाकों में लगातार हो रही बारिश लोगों के लिए आफत बनकर टूट पड़ी है। भारी बारिश के कारण नदियां उफान पर हैं जिसके कारण कई इलाकों में बाढ़ जैसे हालात बने हुए हैं।

वहीं कई जगहों पर भूस्खलन होने से राष्ट्रीय राजमार्ग बंद हो रहे हैं, जिससे चारधाम यात्रा पर भी असर पड़ रहा है। इस बीच मौसम विभाग ने उत्तराखंड के सात जिलो में अगले 72 घंटों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के मुताबिक मौसम के बिगड़ते हालात को देखते हुए कई इलाकों में चेतावनी जारी की गई है। चेतावनी के बाद प्रशासन भी अलर्ट पर है।

बता दें बारिश की मार झेल रहे उत्तराखंड को लेकर चेतावनी जारी करते हुए मौसम विभाग ने बताया कि अगले 72 घंटों में राज्य के कुछ इलाकों में हल्की से मध्यम स्तर की बारिश हो सकती है। वहीं, उत्तराखंड के सात जिलों में मौसम विभाग ने भारी से भारी बारिश की आशंका जताई है। मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार देहरादून, हरिद्वार, पौड़ी, चमौली, नैनीताल, पिथौरागढ़ और ऊधमसिंह नगर में अगले 72 घंटों में भारी बारिश हो सकती है। मौसम विभाग के जारी अलर्ट को देखते हुए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों को अलर्ट पर रखा गया है।

पिछले साल की तरह इस साल भी बारिश ने उत्तराखंड में लोगों का जीवन बेहाल किया हुआ है। पहाड़ी इलाकों के अलावा मैदानी इलाकों में भी बारिश से काफी नुकसान हुआ है। केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री के रास्तों पर बारिश के कारण जगह-जगह भूस्खलन होने से राष्ट्रीय राजमार्ग अवरुद्ध हो रहे हैं, जिससे श्रद्धालुओं को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कुछ इलाकों मे बादल फटने की घटनाओं से भी भारी तबाही हुई है। प्रशासन लगातार राहत एवं बचाव कार्य में लगा हुआ है।

 

सावन आने के साथ कांवड़ मेले की शुरुआत हो चुकी है। जिसके चलते उत्तराखंड में कांवड़ियों की भी इस समय भारी भीड़ है, जिसे देखते हुए प्रशासन ने व्यापक इंतजाम किए हैं। बारिश के अलर्ट और कांवड़ मेले को ध्यान में रखकर बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है। किसी भी तरह की परेशानी से निपटने के लिए एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमों को भी अलर्ट पर रखा गया है। वहीं बताया जा रहा है कि बारिश के कारण क्षतिग्रस्त हुए राजमार्गों को ठीक कराया जा रहा है।

Facebook Comments