8 बार माउंट एवरेस्ट को फतह कर चुके पेंबा शेरपा हुए लापता, बेटी बोली- वापस आएंगे पापा

दुनिया की सबसे उंची पर्वत चोटी माउंट एवरेस्ट को 8 बार फतह कर चुके जाने माने पर्वतारोही पेंबा शेरपा काराकोरम रेंज के बर्फीले दर्रे में लापता हो गए हैं।

दार्जलिंग के रहने वालेपेंबा शेरपा जुलाई की सुबह 8 बजे वापस लौटते हुए लद्दाख में ससेरकांगड़ी 4 में, बर्फीली दरारों बीच गुम हो गए थे। वह 8 बार माउंट एवरेस्ट की चढ़ाई कर चुके हैं और वह माउंट मकालू मनासुलु कंचनजंघा अन्नापुरम और कई अन्य पहाड़ों की चढ़ाई सफलतापूर्वक पूरी कर चुके हैं। वह पिछले काफी समय से बंगाल माउंटेनियरिंग से जुड़े हुए थे। उनके साथ कई पर्वतारोहियों ने पहाड़ों की चढ़ाई की है। आईटीबीपी के जवानों ने बचाव कार्य शुरू कर दिया हालांकि उनके जिंदा मिलने की उम्मीद बहुत कम है।

खबरों के मुताबिक पेंबा वापस लौटते समय बर्फीले दर्रों के बीच गिर पड़े, जहां से उनका निकल पाना संभव नहीं था। उनके बचने की उम्मीद बहुत कम है। जब उनकी पत्नी से संपर्क किया गया तो उन्होंने बताया कि वह 19 जून को 4 अन्य व्यक्तियों के साथ यह कहकर गए थे कि वह मनाली जा रहे हैं और जल्द ही वापस लौट आएंगे और आज सुबह उनके भाई ने मुझे बताया कि वह पहाड़ से लौटते समय गायब हैं और उनकी कोई खबर नहीं मिली है।

पेंबा की बेटी ने बताया कि उनके पिता ने 19 जून को घर से निकले थे। उस समय मैं स्कूल में थी। बेटी ने बताया कि जाने से पहले पिता ने कहा था कि वह जल्द ही वापस लौट आएंगे। मैं नियमित रूप से स्कूल जाती रहूं और पढ़ाई पर ध्यान दूं मुझसे ये बात कहकर वह घर से गए थे। 29 जून को आखिरी बार पेंबा शेरप ने अपनी पत्नी से बात की थी।

पेंबा शेरपा के घर पर उनकी सलामती के लिए प्रार्थनाएं शुरू हो गई हैं। उनके रिश्तेदार उनके घर पहुंच रहे हैं। पेंबा की 87 वर्षीय मां अपने बेटे के लिए रो रही हैं। शेरपा अपने पीछे बूढ़ी मां, पत्नी, दो बेटियों और एक बेटे को छोड़ गए हैं। सभी बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं। सबसे बड़ी बेटी की उम्र 18 वर्ष है। पेंबा शेरपा की उम्र 47 वर्ष थी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इसी बीच शेरपा की पत्नी को नौकरी देने की बात कही है।

 

Facebook Comments