नाटककार से लेकर मुख्यमंत्री तक का सफर, ऐसी थी करुणानिधि की जिंदगी

द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) प्रमुख और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री एम. करुणानिधि (94) का मंगलवार शाम निधन हो गया। वे 11 दिन से कावेरी अस्पताल में भर्ती थे। कावेरी अस्पताल ने कहा- तमाम कोशिशों के बावजूद हम उन्हें बचा नहीं पाए। करुणानिधि ने शाम 6:10 बजे अंतिम सांस ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने करुणानिधि के निधन पर दुख जाहिर किया। उन्होंने कहा- वे देश के वरिष्ठतम नेता थे। हमने एक जननेता को खो दिया। वे सकारात्मक चिंतक, पूर्ण लेखक और ऐसे अगुआ थे, जिन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों और हाशिये पर मौजूद लोगों के लिए समर्पित कर दिया।

 

इससे पहले दोपहर को जारी किए गए मेडिकल बुलेटिन में डॉक्टरों ने कहा था- करुणानिधि का स्वास्थ्य लगातार गिरता जा रहा है। इसके बाद अस्पताल के बाहर समर्थकों की संख्या बढ़ गई। राज्य में तमिल सिनेमा से जुड़े सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए गए। करुणानिधि को यूरिन इंफेक्शन और लो ब्लड प्रेशर की शिकायत के बाद 27 जुलाई को चेन्नई के कावेरी अस्पताल में भर्ती किया गया था।

नाटककार और पटकथाकार भी थे करुणानिधि : मुथुवेल करुणानिधि का जन्म 3 जून, 1924 को तिरुवरूर जिले के तिरुकुवालाई गांव में हुआ था। उन्होंने तीन शादियां कीं। पहली पत्नी का नाम पद्मावती, दूसरी का दयालु और तीसरी का रजति है। पद्मावती का देहांत हो चुका है। उनके 4 बेटे एमके मुथु, एमके अलागिरी, एमके स्टालिन, एमके तमिलारासु और दो बेटियां एमके सेल्वी और कनिमोझी हैं। वे तमिल फिल्मों में नाटककार और पटकथा लेखक भी थे।

 

मोदी ने लिया था फोन पर हालचाल, राहुल मिलने पहुंचे थे : करुणानिधि की हालत 26 जुलाई को बिगड़ गई थी। इसके बाद 27 जुलाई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने फोन पर हालचाल जाना था। मोदी उस समय दक्षिण अफ्रीका में ब्रिक्स सम्मेलन में थे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, राकांपा प्रमुख शरद पवार, रजनीकांत, कमल हासन समेत तमाम नेता उनसे अस्पताल में उनका हालचाल ले चुके हैं।

5 बार मुख्यमंत्री रहे करुणानिधि: करुणानिधि 5 बार तमिलनाडु के मुख्यमंत्री रहे। वे पहली बार 10 फरवरी 1969 से 4 जनवरी 1971 दूसरी बार 15 मार्च, 1971 से 31 जनवरी, 1976 तक मुख्यमंत्री रहे। वे तीसरी बार 27 जनवरी, 1989 से 30 जनवरी, 1991 तक, चौथी बार 13 मई 1996 से 13 मई 2001 तक और पांचवीं बार 13 मई 2006 से 15 मई 2011 तक मुख्यमंत्री रहे। वे अक्टूबर 2017 में आखिरी बार सार्वजनिक तौर पर नजर आए थे।

Facebook Comments