PHYSICAL टेस्ट के बाद मिलेगी नौकरी, चेक करे अपना नाम, बिहार दारोगा परीक्षा का निकला रिजल्ट

 बिहार दारोगा की लिखित परीक्षा देने वाले छात्रों के लिए खुशखबरी है। बताया जाता है कि बिहार दारोगा परीक्षा का रिजल्ट निकल चुका है। अब इसके बाद पास छात्रों से Physical टेस्ट लिया जाएगा और उसके बाद नौकरी दी जाएगी।

बिहार पुलिस में दारोगा के 1717 पदों के लिए हुई मुख्य लिखित परीक्षा का परिणाम जारी कर दिया गया है। सफल अभ्यर्थियों को अब मुख्य परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलेगा। बहाली को लेकर हुई मुख्य परीक्षा में 10 हजार 161 अभ्यर्थियों का चयन किया गया है। परीक्षा 29365 अभ्यर्थियों ने दी थी। बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग की बेवसाइट पर भी रिजल्ट उपलब्ध है। 22 जुलाई को मुख्य परीक्षा हुई थी। सूत्रों का कहना है कि सितंबर के अंतिम सप्ताह तक फिजिकल टेस्ट में दौड़ की परीक्षा होने की सम्भावना है।


10161 अभ्यर्थी मुख्य लिखित परीक्षा में सफल घोषित किए गए हैं। 22 जुलाई को पटना के 44 सेंटरों पर मुख्य लिखित परीक्षा आयोजित की गई। आयोग ने लिखित परीक्षा के आधार पर शारीरिक परीक्षा के लिए पद से छह गुना अभ्यर्थियों का चयन किया है। प्रारंभिक परीक्षा के आधार पर मुख्य लिखित परीक्षा के लिए 29359 अभ्यर्थियों का चयन हुआ था। 22 जुलाई को पटना के 44 सेंटरों पर मुख्य लिखित परीक्षा आयोजित की गई। आयोग ने लिखित परीक्षा के आधार पर शारीरिक परीक्षा के लिए पद से छह गुना अभ्यर्थियों का चयन किया है।

शरीरिक परीक्षा में सिर्फ पास करना होगा : दारोगा के लिए शारीरिक परीक्षा में सिर्फ पास करना होगा। शारीरिक परीक्षा के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार नहीं होगी। मुख्य लिखित परीक्षा में आए अंक के आधार पर मेरिट लिस्ट तैयार होगा और इसी आधार पर दारोगा के लिए अभ्यर्थी अंतिम रूप से चयनित होंगे। शारीरिक परीक्षा में चार स्पर्धाएं होंगी। इसमें दौड़, ऊंची और लंबी कूद के अलावा गोला फेंक शामिल होगा।

बताते चले कि बिहार पुलिस में दारोगा के 1717 पदों के लिए चार लाख 28 हजार 200 आवेदन प्राप्त हुए थे। दारोगा पद पर बहाली बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग की ओर से की जा रही है। 24 अक्टूबर से 30 नवंबर 2017 तक ऑनलाइन आवेदन मंगाए गए थे। 11 मार्च और 15 अप्रैल को प्रारंभिक परीक्षा ली गई थी। लिखित परीक्षा के लिए 4 लाख 28 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों को प्रवेश पत्र जारी किया गया था। इस परीक्षा में तीन लाख 59 हजार 932 अभ्यर्थी बैठे थे। 68 हजार 268 कैंडिडेट परीक्षा में शामिल नहीं हुए थे। लिखित परीक्षा के लिए पूरे प्रदेश में 708 परीक्षा सेंटर बनाए गए थे।

 

Facebook Comments