रेप पीड़िता ने तोड़ा मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा, अफसरों के आया पसीना

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के फतेहगढ़ में लोहिया अस्पताल में निरीक्षण के दौरान एक रेप पीड़िता ने उनका सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए उनके नजदीक पहुंच गई। घटना से पुलिस प्रशासन के अफसरों के पसीने छूट गए। महिला को तत्काल वहां से हटाया गया। उसके मामले में कार्रवाई का आश्वासन देते हुए उसे शांत कराया गया। मामले में मुख्यमंत्री ने भी कार्रवाई का आश्वासन दिया है।

सुबह लगभग 10ः53 बजे मुख्यमंत्री का काफिला लोहिया अस्पताल पहुंचा। यहां पर उन्होंने इमरजेंसी कक्ष के बाहर डाक्टरों से दवाईयों से जुड़ी जानकारियां ली। इसके बाद इमरजेंसी वार्ड पहुंचे। यहां पर उन्होंने चार मारीज विजय, सरोजनी, सुंदरी और नितिन से इलाज के बारे में जानकारी ली। वार्ड में उमस के कारण गर्मी ज्यादा होने के कारण मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर एसी नहीं लगा सकते तो कम से कम कूलर लगा लिया जाए। ताकि लोगों को परेशानी कम हो।

इसके बाद वह सिटी स्कैन कक्ष पहुंचे। यहां पर पूछताछ करने के बाद उन्हें जानकारी मिली कि सिटी स्कैन तो अस्पताल में हो जाता है मगर उसकी रिपोर्ट लखनऊ से आती है। जिसके कारण काफी समय लग जाता है। इसपर मुख्यमंत्री ने कहा कि जल्द ही वह इस व्यवस्था में परिवर्तन करेंगे। लोहिया अस्पताल से महिला अस्पताल जाते वक्त एक रेप पीड़िता मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा तोड़ते हुए उन तक पहुंच गई। उसने रोते हुए मुख्यमंत्री को बताया कि पांच माह में उसके मामले में पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की है। मुख्यमंत्री का सुरक्षा घेरा टूटने पर अधिकारियों के पसीने छूट गए। वह महिला को किनारे ले गए और कार्रवाई का आश्वासन देकर उसे शांत कराया। इसके बाद 11ः08 बजे मुख्यमंत्री लोहिया आवास विकास मैदान के लिए रवाना हो गए। अस्पताल में निरीक्षण के दौरान उनके साथ विधायक मेजर सुनील दत्त द्विवेदी और नागेन्द्र सिंह मौजूद रहे।

पिछली सरकारें समस्या की तरह थी- योगी 

अस्पताल के निरीक्षण के बाद आवास विकास मैदान में सभा को संबोधित करने पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पिछली सरकार समस्या के समान थी। उन्होंने उत्तर प्रदेश में किसी भी पुरानी सत्ताधारी पार्टी का नाम लिए बगैर उन्हें प्राइवेट लिमिटेड कम्पनी करार दिया।  उन्होंने कहा कि आम जनता के साथ खिलवाड़ किया था। जबकि भाजपा सरकार आने के बाद विकास में वृद्धि हुई है आवास विकास के ग्राउंड में लाभार्थी योजना में स्वीकृत पत्र  के दौरान उन्होंने यह बात कही। उन्होंने 326 करोड़ रुपए की विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने केंद्र और प्रदेश सरकार की कल्याणकारी योजनाओं की खूबियों को बयां किया कहा कि पिछली सरकारों के पास कोई एजेंडा नहीं था। मगर हम विकास करने में ही यकीन रखते हैं।

Facebook Comments