हज भवन में रौनक, यात्री अल्लाह के घर दीदार को जाने को बेताब

14 से 28 जुलाई तक आजमीन-ए-हज मक्का व मदीना के लिए उड़ान सेवा शुरु हो गई। पटना के हज भवन में रौनक देखते बन रहा है। पहले काफिले के साथ ही शनिवार से यात्रा शुरु हो गई । वहीं आज रविवार को भी पटना से गया के लिए रवाना किया गया। पटना से गया तक पुलिस सुरक्षा के साथ आजमीन-ए-हज जा रहे हैं।

हज यात्री अल्लाह के घर दीदार को जाने को बेताब है। इस दरम्यान लोग काफी भावुक दिखे, आंसू भी छलके। मगर यह खुशी के आंसू थे। पटना स्थित हज भवन में हज यात्रियों के ठहरने व भोजन की पूरी व्यवस्था है। हज भवन में किसी प्रकार की गड़बड़ी न हो इसके लिए 40 पुलिसकर्मी एवं एक मजिस्ट्रेट की तैनाती पहले से ही की गई। पूरे परिसर में सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

हज भवन परिसर में 24 घटे चिकित्सकीय टीम की तैनाती की गई है। टीकाकरण की भी व्यवस्था की गई है। बिहार सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री हर चीजों की मॉनेटरिंग खुद कर रहे हैं। लाइव बिहार से बात करते हुए उन्होंने बताया कि एक दिन पहले ही वह गया जाकर वहां की हज अभियान की तैयारियों की समीक्षा कर ली है। एयर इंडिया को रास्ते में खाने के लिए एक की जगह दो मिठाई देने और चावल की मात्रा बढ़ाने का निर्देश दिया गया है।

गौरतलब है कि इस बार 4798 आजमीन हज यात्रा पर रवाना हो रहे हैं। शनिवार सायं चार बजे करीब 150 लोग हज यात्रा के लिए रवाना हुए। ऐसा पहली बार हो रहा है कि हज के लिए एक दिन में गया से चार-चार विमाने उड़ानें भरेगी। उधर, गया के जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने बताया कि 14 जुलाई से 28 जुलाई तक हज यात्रियों के लिए एयर इंडिया की उड़ानें होंगी।

14 से 17 जुलाई तक एक- एक उड़ान, 18 से 20 व 22 जुलाई को दो-दो, 23 को तीन, 24 को दो, 25 को तीन, 26 को चार, 27 को पाच और 28 जुलाई को चार उड़ानें भरी जाएंगी। उन्होंने बताया कि हवाईअड्डा के सौजन्य से वाटरप्रूफ पंडाल का निर्माण कराया गया है। इसमें हजयात्रियों के ठहरने की पर्याप्त व्यवस्था है। महिला एवं पुरुषों के लिए अलग-अलग आवासीय व्यवस्था की गई है। हजयात्रियों की सेवा में 70 रजाकार लगाए जा रहे है। उन्हें पास भी निर्गत किया जा चुका है।

गया बॉर्डर से ही हजयात्रियों को रिसीव कर यहा तक लाया जाएगा। इसके लिए पटना जिला से भी समन्वय रखा जाएगा, ताकि हजयात्रियों को समय से लाया जा सके। अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद उर्फ फिरोज अहमद ने कहा कि 14 से 28 जुलाई तक आजमीन-ए-हज मक्का व मदीना के लिए उड़ान भरेंगे। इस वर्ष बिहार से कुल 4,798 आजमीन-ए-हज जाएंगे। इस साल कुल 5156 आवेदन आए थे।

इनमें 362 आवेदनकर्ताओं ने विभिन्न कारणों से यात्रा स्थगित कर दी थी। हज यात्रियों के साथ 22 खादिम उल हुज्जाज व दो पर्यवेक्षक भी भेजे जा रहे हैं। एक बच्चा भी हज को जा रहा है। मंत्री ने हज यात्रियों की संख्या में कमी को लेकर कहा कि खुदा का नाम लेने वालों की संख्या कम हो जाए तो इसके लिए हम सभी दोषी हैं। सरकार ने कोई कमी नहीं रखी है।

Facebook Comments