ये 4 स्त्रियां थी रावण की मृत्यु का कारण

रामायण के अनुसार रावण एक बहुत ही पराक्रमी और महान योद्धा था। उसने अपने बल से कई योद्धाओं को परास्त किया था। इतना पराक्रमी होने के बाद भी रावण हमेशा स्त्रियों को वासना के दृष्टि से देखता था। यही इसके पतन का कारण बना था।

 

एक बार रावण स्वर्गलोक पहुंचा जहां पर उसने स्वर्ग की अप्सरा रम्भा को देखकर वासना की लालसा में पकड़ लिया। जब यह बात नलकुबेर को पता चली तो उसने रावण को श्राप दिया कि यदि वह किसी भी स्त्री की इच्छा के बिना उसे स्पर्श करता है तो उसका सर सौ टुकड़ो में फट जाएगा।

 रावण ने अपनी पत्नी की बहन माया के साथ भी छल से उसकी पतिव्रता धर्म को भंग कर दिया था तब माया ने रावण को श्राप दिया कि आगे चलकर स्त्री ही तुम्हारे मृत्यु का कारण बनेगी।

एक बार जंगल में भगवान विष्णु को पति के रुप में प्राप्त करने के लिए एक तपस्वनी तपस्या कर रही थी। तभी रावण अपने पुष्पक विमान से उसे लंका ले जाने की कोशिश की। तब उस तपस्वनी ने अपने प्राण त्यागते समय श्राप दिया कि स्त्री ही तुम्हारी मृत्यु का कारण बनेगी।

 

रावण ने अपनी बहन शुर्पणखा के पति विघुतजिव्ह वध कर दिया था। तब शूर्पणखा ने मन में रावण को श्राप दिया कि मेरे ही कारण तेरा सर्वनाश होगा।

Facebook Comments