सावन महीने में चुपचाप आटे से बने शिवलिंग की करें पूजा, पैसों की कभी नहीं होगी कमी

देवों के देव महादेव को सावन महीना सबसे प्रिय है। इस माह में भक्त भगवान भोले को प्रसन्न करने के लिए पूजा-अर्चना और आराधना करते हैं। कहा जाता है इस पवित्र माह में जो भी भक्त सच्ची श्रद्धा से भगवान भोले की भक्ति और आराधना करता है, उसपर भगवान शिव की कृपा हमेशा बनी रहती है और उसके मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

सावन के तीन सोमवार बीत चुके हैं। सावन का पवित्र महीना को समाप्त होने में अब कुछ ही दिन शेष बचे हैं। ऐसे में सावन के शेष दिनों में भगवान शंकर की इस विधि से पूजा कर अपने समस्त ग्रह दोष, समस्या को दूर कर सकता है। अगर आप आर्थिक समस्या या ग्रह दोष से परेशान हैं तो सावन महीने में इस चमत्कारी उपाय से आप अपने ग्रह दोष को दूर कर सकते हैं। आटे की शिवलिंग की पूजा से पैसों की तंगी से छुटकारा मिल जाता है।

– गेंहूं के आटे के 11 शिवलिंग बनाएं। ध्यान रखें शिवलिंग का आकार अंगूठे से बड़ा नहीं होना चाहिए। इसके बाद शिवलिंग को चावलों में स्थापित कर जल, पंचामृत, शहद से अभिषेक कराएं। इसके बाद चंदन, जनेऊ, अक्षत, अष्टगंध, इत्र, आंकड़े के फूल, बेलपत्र, शमी की पत्ती, भांग और धतूरा चढ़ाकर विधिवत पूजा करें। इसके बाद सभी 11 शिवलिंग को बहते नदी, तालाब या कूएं में विसर्जित कर दें। ऐसा करने से धन प्राप्ति के योग बनते हैं और आर्थिक समस्या दूर होती है।

– संतान सुख से वंचित दंपती सावन महीने में जौ, गेहूं और चावल के आटे से बने शिवलिंग की पूजा करने पर भोलेनाथ प्रसन्न होते हैं। ऐसा करने से उनकी सुनी गोद भरने के योग बनते हैं और जल्द ही उनकी संतान प्राप्ति की मनोकामना पूरी होती है।

– सावन महीने के किसी भी दिन सुबह उठकर सफेद वस्त्र धारण करके तांबे के लोटे में जल भरकर उसमें सूखे लाल मिर्च के 21 दाने लें। ॐ आदित्याय नम: का उच्चारण करते हुए जल सूर्य देव को अर्पित दें।

– इसके अलावा यदि आप दूब घास से बने शिवलिंग की पूजा करें तो अकाल मृत्यु आपके दरवाजे पर कभी नहीं आती है।
– पीतल के बने शिवलिंग की पूजा और अभिषेक करने से मनुष्य धन धान्य परिपूर्ण गृहस्थ जीवन का निर्वहन करता है।
– मिश्री से बने शिवलिंग की पूजन करें मधुमेह या शुगर बीमारी से छुटकारा मिलता है।
– लहसुनिया स्टोन से बने शिवलिंग के रुद्राभिषेक से शत्रुओं का हर बार खाली जाता है।

Facebook Comments